Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

यूनियन ने की बजाज ऑटो बंद करने की मांग, सैकड़ों कर्मचारियों को संक्रमण

यूनियन अध्यक्ष बाजीराव ने आगे कहा कि हमने कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए 10 से 15 दिनों के लिए प्लांट बंद करने का अनुरोध किया है।
अपडेटेड Jul 07, 2020 पर 08:12  |  स्रोत : Moneycontrol.com

लॉकडाउन के बाद पाबंदियों में ढील दिये जाने से बजाज ने अपना औरंगाबाद का कारखाना शुरू किया है। इसमें तेजी से काम होना शुरू हुआ था तब तक यूनियन ने इस प्लांट को अस्थायी तौर पर बंद करने की मांग की है। इस प्लांट में कोरोना संक्रमण के करीब 250 मामले पाये जाने पर कर्मचारियों में खलबली मच गई है जिसके चलते यूनियन ने सुरक्षा के लिहाज से अस्थायी तौर पर प्लांट बंद करने की मांग की है।


पश्चिम महाराष्ट्र में बजाज ऑटो फैक्टरी में कोरोना के सबसे अधिक मरीज मिले हैं। कंपनी ने अपने कर्मचारियों को पत्र भेजकर कहा है कि जो कर्मचारी काम पर नहीं आयेंगे उन्हें वेतन नहीं मिलेगा। बजाज ऑटो वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष थेंगडे बाजीराव ने कहा है कि कर्मचारी काम पर आने से घबरा रहे हैं। कुछ लोगों ने तो छुट्टी ले ली है।


यूनियन अध्यक्ष बाजीराव ने आगे कहा कि हमने कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए 10 से 15 दिनों के लिए प्लांट बंद करने का अनुरोध किया है। परंतु कंपनी का कहना है कि इससे कोई फायदा नहीं होगा काम खतम होने के बाद वैसे भी लोग सार्वजनिक कार्यक्रमों के लिए एकसाथ जुट जाते हैं।


लोकसत्ता ने रायटर्स के हवाले से खबर छापी है कि फैक्टरी में 8 हजार कर्मचारियों में से 140 लोगों को कोरोना संक्रमण हुआ है जिसमें से 2 लोगों की मौत हो गई है। कंपनी कहती है कि काम नहीं रोक सकते हैं, इस वायरस के साथ जीना सीखना होगा। औरंगाबाद के वालुंज प्लांट में अधिकारियों ने जानकारी दी है कि कोरोना का आंकड़ा 250 के ऊपर चला गया है। हालांकि बजाज की तरफ से अभी कोई अधिकृत जानकारी नहीं दी गई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।