Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

नुकसान उठाकर नहीं बेच सकते गाड़ीः मारुति

उन्होंने जोर देकर कहा कि कंपनी नुकसान उठाकर गाड़ी नहीं बेच सकती है हालांकि हालात में सुधार जरूर होगा।
अपडेटेड Aug 14, 2019 पर 16:54  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नो योर कंपनी में आज मारुति है। ऑटो सेक्टर इस समय बुरे दौर से गुजर रहा है। बिक्री में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। इसके अलावा BS-6 के कारण सेक्टर के लिए और मुश्किलें खड़ी होने वाली हैं। सेक्टर के लिए अभी कहीं से राहत के संकेत नहीं दिख रहे हैं।


ऑटो सेक्टर के मौजूदा हालात और आगे आउटलुक पर सीएनबीसी-आवाज़ के साथ बात करते हुए मारुति के चेयरमैन R C BHARGAV ने कहा कि ऑटो इंडस्ट्री ने सरकार को अपनी दिक्कतें बताईं हैं। FM ने ऑटो सेक्टर को लेकर दिक्कतें समझी हैं। ऑटो सेक्टर में सुधार जल्द होने की उम्मीद है क्योंकि सरकार का फोकस ऑटो सेक्टर पर है।


लिक्विडिटी के बारे में भार्गव ने कहा कि बैंकों ने लोन को लेकर रुख नरम किया है। फाइनेंसिंग में सुधार आना शुरु हो गया है। बिक्री में गिरावट के कारण कंपनी ने temporary work force में 6 प्रतिशत की कटौती की है। हालांकि कंपनी work force में बड़ी कटौती की सोच रही है।


भार्गव ने आगे कहा कि बिक्री में गिरावट से कॉन्ट्रैक्ट पर रखे लोगों की नौकरी गईं हैं। ऑटो बिक्री घटने का असर रोजगार पर दिखेगा। ऑटो बिक्री घटने का इकोनॉमी पर बुरा असर होगा। प्रोडक्शन बिक्री और इंवेंट्री पर निर्भर करेगा। बिक्री के आधार पर प्रोडक्शन में घटबढ़ होती रहती है। बिक्री सामान्य हो जाए तो 1 महीने की इंवेंट्री है। बिक्री कम होने से इंवेट्री बढ़ गई है। अभी करीब 40 दिन की इंवेंट्री है। उन्होंने जोर देकर कहा कि कंपनी नुकसान उठाकर गाड़ी नहीं बेच सकती है हालांकि हालात में सुधार जरूर होगा।


EV के बारे में चर्चा करते हुए भार्गव ने कहा कि छोटी EV कार की लागत ICE से दोगुनी होगी। WagonR EV खासकर ओला, उबर के लिए बनाई है। आम ग्राहकों के लिए WagonR EV नहीं बनाई गई है। अंत में उन्होंने कहा कि PM मोदी और उनके मंत्रियों पर काफी भरोसा है। जो PM मोदी कहेंगे वो जरूर कर पाएंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।