Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार खबरें

चेन्नई को छोड़कर सारे प्लांट में शुरू हुआ काम, जून के बाद होगा नॉर्मल कारोबारः Century Plyboard

देश में चेन्नई को छोड़कर सारे प्लांट को खोलने की अनुमति सरकार से मिली है। कंपनी ने पिछले हफ्ते के 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ चेन्नई को छोड़कर सारे प्लांट में काम भी शुरु कर दिया है।
अपडेटेड Apr 30, 2020 पर 17:29  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नो योर कंपनी में आज रडार पर Century Plyboard है। ये कंपनी प्लाइबोर्ड बनाती है। इसके अलावा ये लैमिनेट शीट्स, फायरबोर्ड, लैमिनेट्स, वीनियर्स, दरवाजे बनाती है। भारत की ये सबसे बड़ी प्लाइवुड बनाने वाली कंपनी है।


इस कंपनी में प्रोमोटर्स की 73 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वहीं म्युचुअल फंड्स की 7 प्रतिशत और FIIs की 7 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इस शेयर का 52 हफ्तों का उच्च स्तर 182 रुपये रहा है जहां से ये शेयर इस समय 35 प्रतिशत नीचे कारोबार कर रहा है।


हाल ही में कंपनी को उत्तर प्रदेश के सीतापुर में ग्रीनफील्ड प्लांट लगाने के लिए लाइसेंस प्राप्त हुआ है। हालांकि एक एनजीओ की शिकायत पश्चात उत्तर प्रदेश सरकार ने इस पर स्टे ऑर्डर दे दिया है।


सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2019 में Century Plyboard की आय 2263 करोड़ रुपये रही जबकि वित्त वर्ष 2018 में कंपनी की आय 1967 करोड़ रुपये रही थी।


Century Plyboard के चेयरमैन सज्जन भजनका ने सीएनबीसी-आवाज़ से बातचीत करते हुए कहा कि लॉकडाउन के बाद अब तक कामकाज ठप रहा है। लेकिन राहत की बात ये है कि सरकार ने अब प्लांट को खोलने की अनुमति प्रदान की है। गुवाहाटी, कांडला प्लांट को परमिशन मिली है कुल मिलाकर देश में चेन्नई को छोड़कर सारे प्लांट को खोलने की अनुमति सरकार से मिली है। कंपनी ने पिछले हफ्ते के 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ चेन्नई को छोड़कर सारे प्लांट में काम भी शुरु कर दिया है।


भजनका ने कहा कि जब 23 मार्च को लॉकडाउन हुआ तो बाजार में कंपनी के प्रोडक्ट्स की अच्छी डिमांड थी। अब लॉकडाउन के बाद वो डिमांड वापस लौटेगी। कंपनी से उसके चैनल पार्टनर्स और डिस्ट्रीब्यूटर्स ने माल मंगाना शुरू कर दिया है। इसको देखते हुए लगता है कि जून के बाद से कंपनी का कारोबार नॉर्मल हो जायेगा।


सज्जन भजनका ने आगे कहा कि कंपनी के प्रोडक्ट्स के बड़े ग्राहक रियल सेक्टर और कॉर्पोरेट सेक्टर के होते हैं लेकिन छोटे घरों, बंगलों से भी कंपनी के प्रोडक्ट्स की अच्छी मांग रहती है। नये प्रोजेक्ट में लगने वाले प्रोडक्ट के अलावा रिनोवेशन के लिए कंपनी के प्रोडक्ट्स की डिमांड रहती है। कंपनी 50 प्रतिशत की क्षमता के बाद हर प्लांट में 80 प्रतिशत की क्षमता के कामकाज जल्द शुरू करेगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।