Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

यस बैंक का फंडिंग पर फैसला टालना कहीं खराब ऑफर का संकेत तो नहीं

बराइच की विश्वसनीयता पर सवाल उठने के बाद से ही यस बैंक के शेयर गिरने लगे हैं
अपडेटेड Dec 12, 2019 पर 15:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

यस बैंक (Yes Bank) ने बैंक के नए शेयरहोल्डर्स पर फिलहाल फैसला टाल दिया है। यह इस बात की तरफ संकेत कर रहा है कि इन ऑफर की क्वालिटी अच्छी नहीं थी।


यस बैंक के बोर्ड की बैठक मंगलवार शाम को हुई थी। बैठक के बाद बैंक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाया था। हालांकि बैठक के बाद यह जरूर कहा कि वह सिटैक्स होल्डिंग्स (Citax Holdings Ltd) के 50 करोड़ डॉलर की फंडिंग लेने के पक्ष में है।


हालांकि यस बैंक का बोर्ड अभी भी इस बात पर विचार कर रहा है कि कनाडा के अरबपति बिजनेसमैन एरविन सिंह बराइच से 1.2 अरब डॉलर लें या नहीं।


लाइव मिंट के मुताबिक, SMC के एक जानका का कहना है, "इस देरी से यह संकेत मिल रहा है कि फंडिंग को लेकर या तो कोई रेगुलेटरी इश्यू है या फिर बैंक को सीरियस ऑफर नहीं मिल रहे हैं। यही वजह है कि बाजार अभी यस बैंक को लेकर चिंतित है।"


यस बैंक के लिए फंड जुटाना बहुत जरूरी हो चुका है। बैड लोन और शैडो बैंकिंग में फंसा यस बैंक को कैश की सख्त जरूरत है।


बैंक ने दो हफ्ते पहले ही अपने संभावित इनवेस्टर एरविन सिंह बराइच के नाम का खुलासा किया था। बराइच पर कनाडा और अमेरिकी कोर्ट में कई मुकदमें चल रहे हैं।


बराइच की विश्वसनीयता पर सवाल उठने के बाद से ही यस बैंक के शेयर गिरने लगे। बाजार के जानकारों का मानना है कि रिजर्व बैंक बराइच को निवेश की अनुमति नहीं देगा।


फंड को लेकर अनिश्चितता बने रहने के कारण मंगलवार को यस बैंक के शेयर 10 फीसदी तक गिर गए। बैंक के CEO रवनीत गिल का कहना है कि वह बैलेंस शीट को दुरुस्त करने की कोशिश कर रहे हैं। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।