Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Yes Bank और इंडियाबुल्स के बीच co-lending समझौता, इस डील से ग्राहकों को मिलेगा सस्ता होमलोन

इस डील से आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग के ग्राहकों को लोन मिलने में आसानी होगी
अपडेटेड Jul 29, 2021 पर 16:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Yes Bank और इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस ने एक को-लेंडिंग (Co-lendign) एग्रीमेंट किया है। इसका मकसद होमबायर्स को अफोर्डेबल रेट्स पर होम लोन की पेशकश करना है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से तय किए गए को-लेंडिंग फ्रेमवर्क में एक बैंक के लो-कॉस्ट फंडिंग मॉडल और एक नॉन-बैंक फर्म की कम कॉस्ट वाली सर्विस देने की क्षमता का फायदा उठाया जाता है।


RBI ने पिछले वर्ष नवंबर में लोन्स की को-लेंडिंग से जुड़ी गाइडलाइंस जारी की थी। इनके तहत बैंक और नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां (NBFC) प्रायरिटी सेक्टर या आर्थिक तौर पर कमजोर वर्गों को लोन दे सकते हैं।


इसका उद्देश्य इस सेगमेंट के लिए क्रेडिट फ्लो बढ़ाना है। को-लेंडिंग के लिए बैंक और NBFC को बोर्ड से स्वीकृति वाली पॉलिसी बनाकर एक मास्टर एग्रीमेंट करना होगा। इस एग्रीमेंट में नियम और शर्तें बताई जाएंगी।


ग्राहकों को क्या होगा फायदा


इससे आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग के बॉरोअर्स को लोन मिलने में आसानी होगी। बैंकों की तुलना में NBFC लोन एप्लिकेशन की तेजी से प्रोसेसिंग करती हैं और इनकी पहुंच भी अधिक होती है।


स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, "इस व्यवस्था से NBFC को अच्छी रेटिंग वाले बॉरोअर हासिल करने में मदद मिल सकती है।"


राकेश झुनझुनवाला की नई एयरलाइन Akasa में कोफाउंडर होंगे Indigo के पूर्व अध्यक्ष आदित्य घोष: रिपोर्ट

को-लेंडिंग एक नई व्यवस्था नहीं है। यह पहले भी अन्य प्रकार से मौजूद रही है। बैंक प्रोजेक्ट फंडिंग के लिए संयुक्त रूप से लोन देते रहे हैं। हालांकि, इसमें एक नई चीज हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों सहित  NBFC का शामिल होना है। यह  NBFC के लिए अच्छा है क्योंकि इससे उन्हें कम रिस्क के साथ अच्छी डील मिल सकेंगी।

पहले को-लेंडिंग को अधिक सफलता नहीं मिली क्योंकि अगर लोन अप्रूवल अच्छा होता था तो लोन देने वाला इंस्टीट्यूशन इसे अन्य लेंडर्स के साथ साझा नहीं करना चाहता था। अगर बॉरोअर की क्वालिटी खराब होती थी तो उसके लिए एक को-लेंडर खोजना मुश्किल हो जाता था।


बैंकों के पास फंड है और  NBFC के पास मजबूत नेटवर्क है। इस वजह से दोनों के साथ आने से फायदा हो सकता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।