Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

Yes Bank ने डिश टीवी के बोर्ड मेंबर के लिए जिसका नाम दिया उसपर बैंक के साथ मिलकर गड़बड़ी करने का आरोप था

Yes Bank की अधूरी जानकारी देने और निवेशकों को गुमराह करने में नांबियार भी सेबी की जांच के घेरे में थे
अपडेटेड Sep 21, 2021 पर 08:40  |  स्रोत : Moneycontrol.com

डिश टीवी और Yes Bank के बीच चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। Yes Bank ने डिश टीवी के बोर्ड में शामिल करने के लिए जिन नामों का प्रस्ताव रखा है उनमें एक संजय नांबियार भी हैं। संजय नांबियार कुछ दिनों पहले ही सेबी की जांच के घेरे में थे। हाल ही में नांबियार ने सेबी के साथ अपना केस सेटल किया है। नांबियार, Yes Bank और 5 अन्य लोगों ने सेबी को 1.65 करोड़ रुपए चुकाकर अपना केस सेटल किया था।


मार्केट रेगुलेटर ने फरवरी 2019 में Yes Bank से जुड़े मामले की जांच शुरू कर थी। इस जांच के बाद सेबी को पता चला था कि बैंक और 6 लोगों ने कुछ गड़बड़ी की है। इसके बाद सेबी ने इन लोगों को अक्टूबर 2020 में कारण बताओ नोटिस भेजा।


कारण बताओ नोटिस में यह आरोप लगाया गया था कि Yes Bank ने 13 फरवरी 2019 को कुछ चुनिंदा जानकारियां दी थी जिससे उसके शेयरों में तेजी आई। बैंक ने पूरी बात ना बताकर सिर्फ Nil डायवर्जन की बात कही जिससे शेयरों में तेजी आई। बैंक ने तब उन मामलों का खुलासा नहीं किया जो रिस्क असेसमेंट रिपोर्ट (RAR) में बताई गईं थीं। इस रिपोर्ट में RBI रेगुलेटरी गड़बड़ियां और दूसरी खामियों के बारे में पता चला था।


Yes Bank पर तब ये आरोप लगा कि उसने जानबूझकर पूरी जानकारी छिपाई। बैंक ने सिर्फ डायवर्जन ना होने की बात बताई जबकि रिस्क से जुड़ी दूसरी बातें छिपा लीं। Yes Bank की अधूरी जानकारी के कारण 14 फरवरी 2019 को बैंक के शेयरों में 30% की तेजी आई थी। Yes Bank की इस गड़बड़ी में 6 लोगों का नाम भी शामिल थे। उसमें से एक संजय नांबियार हैं जिन्हें Yes Bank डिश टीवी के बोर्ड में शामिल करना चाहता है।



सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।