आरोग्य सेतु ऐप हुआ ओपन सोर्स, ऐप में खामी निकालने वाले को 1 लाख रुपए का इनाम

सरकार 4 अलग-अलग कैटेगरी में 1-1 लाख रुपए का इनाम दे रही है
अपडेटेड May 27, 2020 पर 17:56  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu) में प्राइवेसी को लेकर कई बार चिंता जताई जा चुकी है। ऐसे में सरकार ने मंगलवार को इस ऐप के सोर्स कोर्ड को खोल दिया है। सरकार ने कहा है कि अगर कोई सॉफ्टवेयर डेवलपर या इंजीनियर इस ऐप में कोई खामी निकालने में कामयाब होता है तो उसे इनाम दिया जाएगा।


नीति आयोग के CEO अमिताभ कांत ने कहा कि केंद्र सरकार ने बेहद खुला रूख अपनाया है। दुनिया का कोई भी देश ऐसा नहीं करता। कोरोनावायरस संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए सरकार ने आरोग्य सेतू ऐप लॉन्च किया था। चौथे लॉकडाउन से पहले तक घर से बाहर निकलने वालों के लिए यह ऐप डाउनलोड करना जरूरी था। हालांकि अब इसे वैकल्पिक बना दिया गया है।


हालांकि इस ऐप को लेकर लोगों की चिंता यह थी कि यह निजता का हनन है। यानी इस ऐप के जरिए लोगों का डेटा जुटाया जा रहा है और उनकी प्राइवेसी खतरे में है। ऐसी शिकायतों के बाद सरकार ने इस ऐप को ओपन सोर्स कर दिया है।


नेशनल इनफॉमेटिक सेंटर की डायरेक्टर जनरल नीता वर्मा ने कहा कि इस ऐप में तकनीकी गड़बड़ी खोजने वालों के लिए चार कैटेगरी में प्राइज मनी रखे गए हैं। आरोग्य सेतु में सुरक्षा की तीन कैटेगरी में 1-1 लाख रुपए का इनाम रखा गया है जबकि कोड में सुधार का सुझाव देने वाले को भी 1 लाख रुपए का इनाम मिलेगा।


सरकार ने आरोग्य सेतु ऐप 2 अप्रैल 2020 को जारी किया था। देश में 25 मार्च से ही लॉकडाउन जारी है। देशभर में अब तक इस ऐप को 11.5 करोड़ लोग डाउनलोड कर चुके हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।