अडानी ग्रुप को 3 एयरपोर्ट का अधिग्रहण करने के लिए 90 दिन का और समय मिला

एयरपोर्ट को टेकअओवर करने के लिए अदानी ग्रुप ने एयरपोर्ट अथॉरिटी से 6 महीने का समय मांगा था
अपडेटेड Aug 06, 2021 पर 08:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सिविल एविएशन मिनिस्टर ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने गुरुवार को लोकसभा में बताया कि अदानी ग्रुप को जयपुर (Jaipur), गुवाहाटी (Guwahati) और तिरुवंतपुरम (Thiruvananthapuram) में एयरपोर्ट का अधिग्रहण करने के लिए 3 महीने का और समय दिया गया है।


हैदराबाद की इस कंपनी ने कोरोना वायरस महामारी का हवाला देते हुए राज्य के मालिकाना हक वाले Airports Authority of India (AAI) से इन तीनों एयरपोर्ट का जिम्मा संभालने के लिए 6 महीने का अतिरिक्त समय मांगा था।


सांसद महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) के एक सवाल के जवाब में सिंधिया ने कहा कि जयपुर, गुवाहाटी और तिरुवंतपुरम एयरपोर्ट को जिम्मा अडानी ग्रुप को सौंपा जाना बाकी है। जबकि मंगलुरु, अहमदाबाद और लखनऊ एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अडानी ग्रुप ने 31 अक्टूबर को संभाल ली थी।


Adani Wilmar IPO: 4500 करोड़ रुपए का इश्यू लाने की तैयारी, अडानी ग्रुप की लिस्ट होने वाली सातवीं कंपनी होगी


सिंधिया ने लिखित में जवाब देते हुए कहा कि AAI ने इस मामले में अडानी ग्रुप को 3 महीने का समय दिया था। देरी से सौंपने पर AAI को कोई नुकसान नहीं हुआ है। सिंधिया ने आगे कहा कि गुवाहाटी, जयपुर और तिरुवंतपुरम एयरपोर्ट से AAI को रेवेन्यू तब तक मिलता रहेगा जबतक अडानी ग्रुप को जिम्मा नहीं सौंप दिया जाता।


बता दें कि अडानी ग्रुप की एयरपोर्ट होल्डिंग कंपनी, अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग लिमिटेड (Adani Airport Holdings Ltd - AAHL) इस साल की शुरुआत में मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (Mumbai International Airport Ltd- MIAL) में controlling stake लेने के बाद देश की सबसे बड़ी एयरपोर्ट ऑपरेटर कंपनी बन गई है।


मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट दिल्ली एयरपोर्ट के बाद देश का दूसरा सबसे बिजी एयरपोर्ट है। अडानी एयरपोर्ट होल्डिंग्स ने GMR से मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट के ऑपरेटर की जिम्मेदारी खरीदी है।


अडानी ग्रुप के स्टॉक्स में 7 अरब डॉलर लगाने वाले मॉरीशस के चार फंड्स पर पहले भी लगे हैं आरोप 


कोरोना वायरस महामारी के चलते एविएशन सेक्टर पर बहुत बुरा इसर पड़ा है। रेटिंग एजेंसी इक्रा लिमिटेड (Icra Ltd) के मुताबिक, 31 मार्च 2021 को खत्म फिस्कल ईयर में एयरपोर्ट सेक्टर को 5,400 करोड़ रुपये शुद्ध घाटे की आशंका जताई है। इस रिपोर्ट में इस सेक्टर के लिए 3,500 करोड़ रुपये नुकसान का भी अनुमान लगाया गया है।  


वहीं सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, फिस्कल ईयर 2020-21 में मुंबई एयरपोर्ट को 484.8 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। सबसे ज्यादा नुकसान वाले टॉप पांच एयरपोर्ट में मुंबई एयरपोर्ट टॉप पर है इसके बाद दिल्ली, चेन्नई, त्रिवेंद्रम और अहमदाबाद एयरपोर्ट हैं।
 
सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।