कोरोना मरीज मामले पर निजी अस्पतालों पर नकेल कसने के लिए प्रशासन ने शुरू किया ऐप

जिलाधिकारी ने अब ऐप्स के द्वारा सभी निजी अस्पतालों की जानकारी नागरिकों को उपलब्ध कराने का फैसला लिया है।
अपडेटेड Aug 07, 2020 पर 12:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश में कोरोना का सबसे ज्यादा प्रकोप महाराष्ट्र राज्य में दिखाई दिया है। यहां पर कोरोना रोगियों को हर प्रकार का उपचार और सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रशासन हर संभव उपाय कर रहा है। अब सांगली के जिला प्रशासन ने कोरोना मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने पर टालमटोल करने वाले निजी अस्पतालों पर लगाम लगाने के लिए नया आइडिया अपनाया है। सांगली के जिलाधिकारी ने अब ऐप्स के द्वारा सभी निजी अस्पतालों की जानकारी नागरिकों को उपलब्ध कराने का फैसला लिया है।


कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने के कारण सांगली जिला प्रशासन ने 25 निजी अस्पतालों को कोविड-19 के उपचार के लिए अधिग्रहित किया है। कोरोना मरीजों को समय पर उपचार उपलब्ध कराने के लिए निजी अस्पतालों को जरूरी निर्देश दिये गये हैं। इसके बावजूद निजी अस्पताल कोरोना मरीजों को बेड नहीं उपलब्ध होने का बहाना बनाकर एडमिट करने से टालमटोल करते हैं। यहां तक कि एडमिट मरीजों का ठीक से इलाज नहीं करने की शिकायतें भी मिल रहीं थी।


महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबित इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए जिला प्रशासन ने निजी अस्पतालों में बेड इन्फॉर्मेशन सिस्टम ऐप बनाया है। इस ऐप्स से निजी अस्पतालों में उपलब्ध बेड की संख्या का नागरिकों को पता चल सकेगा।  sangli.nic.in वेबसाइट पर सांगली के नागरिकों को और smkc.gov.in/covid19 पर सांगली के साथ ही मिरज, कुपवाड़ा महानगरपालिका के नागरिकों को निजी अस्पतालों के बेड की जानकारी प्राप्त हो सकेगी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।