अफगानिस्तान से भारत लौट रहे लोगों को पोलियो का टीका लगाया जाएगा, जानें वजह

दुनिया में अफगानिस्तान और पाकिस्तान ही ऐसे दो देश हैं जहां पोलियो अब भी सक्रिय है
अपडेटेड Aug 23, 2021 पर 08:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Afghanistan-Taliban crisis Live Updates: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandaviya) ने रविवार को कहा कि भारत ने अफगानिस्तान से लौट रहे लोगों को एहतियाती उपाय के तहत पोलियो का टीका नि:शुल्क लगाने का फैसला किया है। मांडविया ने ट्विटर पर एक तस्वीर भी शेयर की है, जिसमें युद्धग्रस्त देश से लौटे लोगों को दिल्ली के इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Delhi international airport) पर टीका लगवाते हुए देखा जा सकता है।


दुनिया में अफगानिस्तान और पाकिस्तान ही ऐसे दो देश हैं जहां पोलियो अब भी एन्डेमिक (किसी विशेष स्थान या व्यक्ति वर्ग में नियमित रूप से पाया जाने वाला रोग) है। मांडविया ने ट्वीट कर कहा कि हमने अफगानिस्तान से लौट रहे लोगों को वाइल्ड पोलियो वायरस के खिलाफ एहतियातन नि:शुल्क पोलियो का टीका- OPV एवं FIPV, लगाने का फैसला किया है।


काबुल एयरपोर्ट पर भगदड़ में अफगानिस्तान के 7 लोगों की मौत, ब्रिटेन रक्षा मंत्रालय ने दी जानकारी


स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य को सुनिश्वचित करने के लिए स्वास्थ्य टीम को उनके प्रयास के लिए बधाई। आपको बता दें कि भारत ने अफगानिस्तान की राजधानी में खराब होती सुरक्षा स्थिति के बीच 107 भारतीयों समेत 168 लोगों को रविवार को काबुल से एक सैन्य विमान के जरिए निकाला।


एक हफ्ते पहले तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया था। भारत ने इससे पहले भारतीय राजदूत और काबुल में अपने दूतावास के अन्य कर्मचारियों समेत 200 लोगों को भारतीय वायु सेना के परिवहन विमान सी-17 के जरिए वहां से निकाला था।


अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद काबुल में खराब होती सुरक्षा स्थिति की पृष्ठभूमि में भारत अफगान राजधानी से अपने नागरिकों को बाहर निकालने के अपने प्रयासों के तहत तीन उड़ानों के जरिए अपने 329 नागरिकों और दो अफगान सांसद समेत करीब 400 लोगों को रविवार को देश वापस ले आया।


'मुझे रोने का मन कर रहा है...' काबुल से भारत पहुंचे अफगान सांसद फूट-फूटकर रोए, देखें वीडियो


एक अनुमान के मुताबिक, अफगानिस्तान में करीब 400 भारतीय फंसे हो सकते हैं और भारत उन्हें वहां से निकालने का प्रयास कर रहा है और इसके लिए वह अमेरिका एवं अन्य मित्र राष्ट्रों के साथ समन्वय से काम कर रहा है।


अमेरिकी सैनिकों की स्वदेश वापसी की पृष्ठभूमि में तालिबान ने अफगानिस्तान में इस महीने तेजी से अपने पांव पसारते हुए राजधानी काबुल समेत वहां के अधिकतर इलाकों पर कब्जा जमा लिया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।