Coronavirus के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र की राज्यों को सलाह, बढ़ाए जाएं RT-PCR टेस्ट

देश के कुल एक्टिव केस में से 74 प्रतिशत से ज्यादा केरल और महाराष्ट्र में हैं
अपडेटेड Feb 22, 2021 पर 12:57  |  स्रोत : Moneycontrol.com

महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल (Kerala) सहित कई राज्यों में COVID-19 के रोज आने वाले नए मामलों में बढ़ोतरी के बीच, केंद्र ने राज्यों से RT-PCR टेस्ट बढ़ाने और म्यूटेंट स्ट्रेन (Mutant Strains) की की निगरानी के अलावा चयनित जिलों में सख्त निगरानी और कड़े नियंत्रण पर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी है। राज्यों को लिखे पत्र में, सरकार ने ये भी जोर दिया है कि रेपिड एंटीजन टेस्ट में जितनी भी रिपोर्ट नेगेटिव आई हैं, उनका RT-PCR टेस्ट भी जरूर किया जाए।


मंत्रालय ने कहा, “देश के कुल एक्टिव केस में से 74 प्रतिशत से ज्यादा केरल और महाराष्ट्र में हैं। देर से देखा गया है कि छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में भी रोज आने वाले मामलों में वृद्धि हुई है। इसी तरह पंजाब और जम्मू और कश्मीर में भी नए केस बढ़ रहे हैं।”


केरल में पिछले चार हफ्तों में औसत साप्ताहिक मामले 42,000 से 34,800 के बीच रहे हैं।। इसी तरह, पिछले चार हफ्तों में, केरल में साप्ताहिक पॉजिटिव दर 13.9 प्रतिशत से बढ़कर 8.9 प्रतिशत हो गई है। केरल में, अलाप्पुझा जिला विशेष चिंता का कारण है, जहां वीकली पॉजिटिव रेट बढ़कर 10.7 प्रतिशत हो गया है और साप्ताहिक मामले बढ़कर 2,833 हो गए हैं, मंत्रालय ने रेखांकित किया।


महाराष्ट्र में पिछले चार हफ्तों में साप्ताहिक मामले 18,200 से बढ़ कर 21,300 हो गए हैं, जबकि वीकली पॉजिटिव रेट 4.7 से बढ़ कर आठ प्रतिशत हो गया है। मंत्रालय ने इस बात का जिक्र किया कि राज्य में मुंबई के कई इलाके चिंता का कारण बन गए हैं, जहां वायरस के मामलों में 19 प्रतिशत वृद्धि हुई है। इसके अलावा नागपुर में 33 प्रतिशत, अमरावती में 47 प्रतिशत, नासिक 23 प्रतशित, अकोला 55 प्रतिशत और यवतमाल 48 प्रतिश्त में वीकली केस बढ़ गए हैं।


केंद्र ने इन सभी राज्यों को पांच उपायों पर जोर देने की सलाह दी है, जिनमें RT-PCR टेस्ट, सख्त और व्यापक निगरानी, जिलों में क्लीनिकल प्रबंधन आदि शामिल हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।