दिल्ली सरकार की मांग, घरों में Quarantine होने की अनुमति दोबारा दी जाए

दिल्ली में कोरोनावायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 60,000 के पार जा चुकी है
अपडेटेड Jun 24, 2020 पर 08:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) की सरकार ने मंगलवार को सरकार से मांग की है कि वह Covid-19 के मरीजों के Home Quarantine होने का फैसला दोबारा लागू करे। केंद्र सरकार और दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली में Home Qurantine होने पर रोक लगाते हुए सभी मरीजों के लिए Quarantin सेंटर पर जाना अनिवार्य कर दिया है। दिल्ली के डिप्टी चीफ मिनिस्टर मनीष सिसोदिया ने कहा है कि नए नियम से मरीजों में कंफ्यूजन पैदा हो रहा है और साथ ही हॉस्पिटल पर दबाव बढ़ रहा है।


पिछले हफ्ते उपराज्यपाल अनिल बैजल ने एक आदेश जारी किया था कि कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों के लिए 5 दिन संस्थागत Quarantine सेंटर में रहना अनिवार्य कर दिया था। इसके बाद आम आदमी पार्टी की सरकार और उपराज्यपाल एकबार फिर आमने-सामने आ गए हैं।


दिल्ली में कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। देश भर में महाराष्ट्र के बाद दिल्ली का दूसरा नंबर है। यहां संक्रमितों की संख्या बढ़कर 60,000 के पार जा चुकी है। दिल्ली में अभी तक रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या 36,602 है।


मनीष सिसोदिया ने कहा था कि एक अनुमान के मुताबिक, जुलाई अंत तक दिल्ली में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5.5 लाख हो जाएगी। ऐसे में दिल्ली सरकार चाहती है कि होम Quarantine की  अनुमति दी जाए ताकि अस्पतालों पर बोझ कम हो।
सिसोदिया ने कहा, "नया नियम आने के बाद लोगों में काफी कंफ्यूजन है। मरीज Home Quarantine होने की प्रक्रिया नहीं जान रहे हैं। अगर वो सेंटर पर नहीं आते हैं तो अथॉरिटी की दिक्कत बढ़ेगी। दिल्ली में हर दिन 3000 नए केस बढ़ रहे हैं। ऐसे में पॉजिटिव लोगों के लिए शटल या एंबुलेंस का इंतजाम करना मुश्किल है। मेरा मानना है कि जो मरीज गंभीर है उन्हें प्रायोरिटी देनी चाहिए।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।