कानपुर में गुंडों का पुलिस पर बड़ा हमला, उपाधीक्षक सहित 8 पुलिस जवान शहीद

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस पर अचानक गुंडों द्वारा किये गये घातक हमले में एक पुलिस उप अधीक्षक सहित 8 जवान शहीद हो गये
अपडेटेड Jul 03, 2020 पर 15:35  |  स्रोत : Moneycontrol.com

उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में पुलिस पर अचानक गुंडों द्वारा किये गये घातक हमले में एक पुलिस उप अधीक्षक सहित 8 जवान शहीद हो गये। कानपुर पुलिस चौबेपुर पुलिस स्टेशन की हद में रहनेवाले अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) को पकड़ने के लिए गांव में गई थी जहां पर पहले से घात लगाकर बैठे हुए गुंडों ने अचानक पुलिस टीम पर हमला कर दिया। विकास दुबे एक हिस्ट्रीशीटर अपराधी है जिसने 2001 में राजनाथ सिंह सरकार में मंत्रीपद का दर्जा हासिल संतोष शुक्ला की पुलिस स्टेशन में घुस कर हत्या कर दी थी। उसे पकड़ने के लिए जब पुलिस गांव में गई तो पुलिस दल को चारों ओर से गुंडों ने घेर लिया और अंधाधुंद गोलीबारी शुरू कर दी जिसमें 8 पुलिसवाले शहीद हो गये। इस घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस महानिदेशक और गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव से फोन पर बात की।


शहीद हुए पुलिस वालो में बिल्लौर सर्कल के अधिकारी देवेंद्र मिश्र, शिवराजपुर स्टेशन के महेश यादव, दो पुलिस उपनिरीक्षक और 4 सिपाही शामिल हैं। इसके अलावा कई पुलिस वाले गंभीर रूप से जख्मी हैं। पुलिस हत्या के मामले में विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई थी जिसके ऊपर 60 अपराध दर्ज हैं। मुठभेड़ में 2 गुंडे भी मारे गये हैं।


महाराष्ट्र टाइ्म्स में छपी खबर के मुताबिक उत्तरप्रदेश के डीजीपी एस. सी. अवस्थी ने जानकारी दी कि विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए गई पुलिस टीम के गांव के पास पहुंचने पर पुलिस की गाड़ी के सामने जेसीबी खड़ी कर दी गई थी जिसकी वजह से पुलिस की गाड़ी गांव के अंदर नहीं जा सकी। उसके बाद ऊंचाई पर घात लगाये बैठे गुंडों ने पुलिस पर गोलीबारी शुरू कर दी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।