सोशल मीडिया अकाउंट के Blue Tick के लिए 1 लाख रुपए तक ले रही हैं कंपनियां

भारत में Fake Verification वाले अकाउंट की संख्या करीब 3,000 हजार करोड़ का है
अपडेटेड Jan 31, 2021 पर 13:28  |  स्रोत : Moneycontrol.com

अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर हर किसी की चाहत ब्लू टिक पाने की होती है। Facebook हो या  Instagram या फिर Twitter, सब चाहते हैं कि उनके अकाउंट को Blue Tick मिल जाए और उनका अकाउंट वेरिफाई हो जाए। अब एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में Blue Tick के लिए आपको 30,000 हजार से लेकर 1 लाख रुपए तक खर्च करने पड़ सकते हैं।


The Economic Times की जांच रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में उपयोगकर्ताओं के लिए वेरिफाइड अकाउंट की फीस ज्यादा है। रिपोर्ट के अनुसार mpsocial.com, blackhatworld.com और swapd.co जैसी साइट यूजर्स को ज्यादा कीमतों पर ब्लू टिक दे रहे हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि मार्केट में ऐसी कई डिजिटल मार्केटिंग एजेंसियां है जो ऐसी सर्विस दे रही हैं। मनीकंट्रोल इस रिपोर्ट के सही होने का दावा नहीं करता है।


Facebook,  Instagram, Twitter जैसी कंपनियां आमतौर पर सरकारी संगठनों, कंपनियों, खास व्यक्तियों, राजनेताओं, अभिनेताओं, बिजनेस से जुड़े खास व्यक्तियों, न्यूज कंपनियों और राजनेताओं को ही आसानी से ब्लू टिक देती हैं या उनका अकाउंट वेरिफाई करती हैं। ट्विटर पर ब्लू टिक मिलना यह बताता है कि यह खाता फर्जी नहीं है और ट्विटर ने इसे Verified किया है। अगर आपको ब्लू टिक चाहिए तो आपका अकाउंट सही और एक्टिव होना चाहिए।


इसी तरह से Facebook,  Instagram भी उन्ही खातों को ब्लू टिक या Verified करते हैं जो फर्जी नहीं होते हैं और जो यूनिक होते हैं। इसी के साथ खातों का सही होना भी जरूरी होता है।


रिपोर्ट में बताया गया है कि एजेंसी Verification Services उपलब्ध करवा रही है। इसके लिए वह सोशल मीडिया पर Boosting Tools का इस्तेमाल करके फॉलोअर्स की संख्या बढ़ाते हैं। इसके जरिए अकाउंट या अकाउंट से जुड़े पोस्ट बूस्ट किए जाते हैं। कंपनियां इसके लिए मोटी फीस लेती हैं। इसके बाद यह यूजर्स के अकाउंट पर Sponsored Posts डालते हैं ताकि अकाउंट खास लगे।


एक्सपर्ट का कहना है कि इन एजेंसियों को हर साल ब्लू टिक को लेकर कम से कम 10 लाख सवाल आते हैं। भारत में Fake Verification वाले अकाउंट की संख्या करीब 3,000 हजार करोड़ का है। ये संख्या अभी बढ़ सकती है क्योंकि अभी ट्विटर ने अपनी Verification Services को 2017 से बंद कर रखा है।  


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।