DHFL केस: यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर की पत्नी, दो बेटियों को जमानत देने से बॉम्बे HC का इंकार

सीबीआई की विशेष अदालत ने भी तीनों को जमानत देने से मना किया था
अपडेटेड Sep 28, 2021 पर 17:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

बॉम्बे हाई कोर्ट ने मंगलवार को यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर की पत्नी बिंदु और उनकी दो बेटियों राधा व रौशनी को जमानत देने से इनकार कर दिया। यह मामला प्राइवेट सेक्टर की वित्तीय कंपनी DHFL से संबंधित कथित भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के एक केस से जुड़ा हुआ है। जस्टिस भारती डांगरे की एकल बेंच ने कपूर की पत्नी और बेटियों की जमानत याचिकाएं खारिज कर दीं।


इससे पहले मुंबई स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने भी 18 सितंबर को उन्हें जमानत देने से मना कर दिया था। अदालत ने कहा था कि पहली नजर में अवैध गतिविधियों से बैंक को 4,000 करोड़ रुपये के नुकसान की बात सामने आ रही है। इसी आदेश को तीनों ने हाई कोर्ट में चुनौती दी थी।


2 महीने में 25% तक गिर गया Dolly Khanna का ये शेयर, क्या आपको खरीदना चाहिए?


सीबीआई की विशेष अदालत ने तीनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजते हुए कहा था कि वे महिला होने के नाते सहानुभूति की हकदार नहीं हैं। फिलहाल तीनों मुंबई की भायखला महिला जेल में बंद हैं।


तीनों ने हाई कोर्ट में अपनी जमानत याचिका में कहा था कि विशेष सीबीआई अदालत से मामले में गंभीर चूक हुई है। सीबीआई ने उनकी याचिकाओं का विरोध करते हुए कहा था कि विशेष अदालत के आदेश में कुछ गलत नहीं है। सीबीआई के अनुसार राणा कपूर ने DHFL के कपिल वधावन के साथ एक आपराधिक साजिश रची थी। राणा कपूर भी अभी जेल में हैं।


केंद्र सरकार ने दिव्यांग आश्रितों की फैमिली पेंशन के लिए आय सीमा बढ़ाई


CBI ने कहा कि यस बैंक ने अप्रैल से जून 2018 के बीच DHFL के शॉर्ट-टर्म डिबेंचर में 3,700 करोड़ रुपये का निवेश किया। केंद्रीय एजेंसी का आरोप है कि DHFL ने डीओआईटी अर्बन वेंचर्स नामक एक कंपनी को कर्ज के रूप में कपूर को 900 करोड़ रुपये की रिश्वत दी। इस कंपनी पर कपूर की पत्नी और बेटियों का नियंत्रण है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।