चीन ने परिवार नियोजन नीति में किया बड़ा बदलाव, अब दो की जगह तीन बच्चे पैदा करने की होगी अनुमति

करीब 40 सालों तक चीन ने अपने यहां एक विवादास्पद "वन-चाइल्ड पॉलिसी" को लागू किया हुआ था, जिसे 2016 में हटा लिया था
अपडेटेड May 31, 2021 पर 16:26  |  स्रोत : Moneycontrol.com

चीन (China) ने अपनी अब तक की सबसे बढ़ी पॉलिसी में एक महत्वपूर्ण बदलाव किया है। राज्य मीडिया सिन्हुआ ने सोमवार को बताया कि चीन ने अपनी परिवार नियोजन नीति (Family Planning policy) में ढील दी है और दंपत्तियों को ज्यादा से ज्यादा तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति दी है। ये फैसला इसलिए लिया गया, क्योंकि हाल में एक जनगणना से पता चला कि चीन जनसंख्या तेजी से बूढ़ी हो रही है।


बता दें कि लगभग 40 सालों तक चीन ने एक विवादास्पद "वन-चाइल्ड पॉलिसी" को लागू किया, जिसे दुनिया भर में सबसे सख्त परिवार नियोजन नीति में से एक माना जाता था। इसके बाद इस नीति को 2016 में एक बूढ़ापे की तरफ बढ़ता कार्यबल और आर्थिक ठहराव पर व्यापक चिंताओं के कारण हटा लिया गया था।


हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, सिन्हुआ ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा आयोजित चीन की एलीट पोलित ब्यूरो लीडरशिप समिति की सोमवार की बैठक का हवाला देते हुए कहा, "आबादी की उम्र बढ़ने पर सक्रिय रूप से प्रतिक्रिया करने के लिए ... एक दंपत्ती के तीन बच्चे हो सकते हैं।"


राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने पिछले महीने कहा था कि बच्चे के जन्म को प्रोत्साहित करने के सरकारी प्रयासों के बावजूद, चीन का वार्षिक जन्म 2020 में 12 मिलियन के रिकॉर्ड निचले स्तर तक गिर गया है।


ब्यूरो ने खुलासा किया कि चीन की प्रजनन दर (Fertility Rate) 1.3 है, जो कि स्थिर जनसंख्या बनाए रखने के लिए जरूरी स्तर से नीचे है।


पिछले महीने प्रकाशित, एक दशक में एक बार 2020 की जनगणना के परिणामों से ये भी पता चला है कि चीन की जनसंख्या 1960 के बाद से सबसे धीमी दर से बढ़ी है, जो 1.41 बिलियन तक पहुंच गई है।


इससे कामकाजी उम्र के लोगों की संख्या में तेज गिरावट के साथ आ रही है, जिसके चलते एक बार फिर एक आसन्न जनसांख्यिकीय संकट की आशंका बढ़ रही है।


दशकों से चली आ रही वन-चाइल्ड पॉलिसी, और लड़कों के लिए एक पारंपरिक सामाजिक वरीयता के कारण चीन का जेंडर बैलेंस भी बिगड़ गया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।