पूर्व CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने Coronavirus को बताया जीवित प्राणी, कहा- इसे भी है जीने का हक... और हो गए ट्रोल

त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने अपने इस तर्क के पीछे दार्शनिक नजरिया बताया
अपडेटेड May 14, 2021 पर 15:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

उत्तराखंड (Uttarakhand) के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने गुरुवार को कहा कि कोरोनावायरस (Coronavirus) एक जीवित प्राणी है, जिसे जीने का अधिकार है। उन्होंने एक समाचार चैनल से बात करते हुए कहा, "दार्शनिक नजरिए से देखा जाए तो, कोरोनोवायरस भी एक जीवित प्राणी है। इसे भी हम सब की तरह जीने का अधिकार है।"


रावत ने आगे कहा, "लेकिन हम (मनुष्य) खुद को सबसे बुद्धिमान समझते हैं और इसे खत्म करना चाहते हैं। हम उसके पीछे लगे हुए हैं, अब वो बचने के लिए अपना रूप बदल रहा है और वो बहुरूपिया हो गया है।" हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि इंसान को सुरक्षित रहने के लिए वायरस को हराने होगा।


अब रावत को सोशल मीडिया कोरोनोवायरस को लेकर दिए गए इस असामान्य तर्क के लिए लोग काफी ट्रोल कर रहे हैं, क्योंकि उनका ये वीडियो ऐसे समय में वायरल हुआ जब पूरा देश COVID-19 की एक घातक दूसरी लहर से जूझ रहा है। एक ट्विटर यूजर ने व्यंग्य करते हुए कहा, "इस वायरस जीव को सेंट्रल विस्टा में आश्रय दिया जाना चाहिए।"


वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शुक्रवार को आए नए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान कुल 3,43,144 नए मामले रिपोर्ट किए गए हैं। इसी के साथ संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,40,46,809 पहुंच गई है। इस दौरान 4,000 लोगों की मौत हो गई है।


वहीं देश में अभी संक्रमितों की कुल संख्या  2,40,46,809 पहुंच गई है। इनमें से 37,04,893  एक्टिव केस हैं जबकि 2,00,79,599 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।


पिछले 24 घंटों के दौरान इस महामारी के कारण 4,000 लोगों की मौत हुई है। इसी के साथ इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2,62,317 पहुंच गई है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।