Coronavirus Live Updates: एक दिन में सबसे ज्यादा 3 लाख नए मामले, 2000 से ज्यादा लोगों की हुई मौत

Coronavirus Updates: हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, कुल 1,56,16,130 संक्रमितों में से एक्टिव केसों की संख्या 21,57,538 है और 1,32,76,039 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं
अपडेटेड Apr 21, 2021 पर 14:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

Coronavirus Updates: देश में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर से संक्रमण के  2,95,041 नए मामले सामने आए हैं। इसी के साथ देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,56,16,130 पहुंच गई है। देश में कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक है।


हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक, कुल 1,56,16,130 संक्रमितों में से एक्टिव केसों की संख्या 21,57,538 है और  1,32,76,039  लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।


पिछले एक दिन में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 2023 रही। मरने वालों की यह अब तक कि सबसे बड़ी संख्या है। इस महामारी के कारण 1,82,553  लोगों की मौत हो चुकी है। 


इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मुताबिक, 19 अप्रैल तक 27,10,53,392   सैंपल टेस्ट किए गए हैं। जबकि सिर्फ 19 अप्रैल को 16,39,357   सैंपल टेस्ट हुए हैं। देश में अब तक कोरोनावायरस की वैक्सीन 13,01,19,310 लोगों को दी गई है।


नहीं बंद होंगी ट्रेन


कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन पर क्या ट्रेनें फिर से बंद हो जाएंगी। प्रवासी मजदूरों को फिर से अपने घर पहुंचने के लिए पैदल यात्रा करनी पड़ेगी। रेलवे स्टेशनों पर भीड़ एकत्र होने लगी है। लोगों को डर सता रहा है कि कहीं फिर से ट्रेन बंद ना हो जाए।


ऐसे में रेल मंत्री ने पीयूष ने ट्रेनें चालू रखने के बारे में बड़ा बयान दिया है। गोयल ने प्रवासी मजदूरों की बढ़ती भीड़ के सवाल पर कहा है कि किसी भी प्रकार का कोई लॉकडाउन नहीं है। लोगों को किसी भी तरह से परेशान होने की जरूरत नहीं है। ट्रेनें पहले की तरह चलती रहेंगी और लोग आसानी से अपना टिकट बुक कराकर यात्रा कर सकेंगे।


कोवीशील्ड की कीमत तय


सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने 21 अप्रैल को कोरोनावायरस की वैक्सीन Covishield की कीमत तय कर दी है। कंपनी अब ये दवाएं सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को बेच पाएगी। राज्य सरकारें 400 रुपए प्रति डोज के हिसाब से ये दवा खरीद पाएंगी। जबकि प्राइवेट अस्पतालों में एक डोज वैक्सीन के लिए 600 रुपए चुकाने होंगे।


सीरम इंस्टीट्यूट ने बताया कि वैक्सीन के कुल प्रोडक्शन का 50 फीसदी भारत सरकार के वैक्सीनेशन प्रोग्राम में इस्तेमाल किया जाएगा। बाकी का 50 फीसदी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को दिया जाएगा।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।