Covid-19 का आयुर्वेदिक इलाज मिला, अगले चरण में जाएगा क्लीनिकल ट्रायल

विक्टोरिया अस्पताल के 10 कोरोनावायरस मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल किया गया जिसमें सभी मरीज इलाज के बाद नेगेटिव आए
अपडेटेड Jul 03, 2020 पर 00:31  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोनावायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण के बीच पूरी दुनिया के वैज्ञानिक इस महामारी की दवा खोजने में लगी है। इस बीच बेंगलुरु में हुए क्लीनिकल ट्रायल से यह साबित हुआ है कि इस महामारी का इलाज आयुर्वेद के जरिए भी मुमकिन है। कोरोनावायरस संक्रमण को हराने में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। सरकार के गाइडलाइंस के मुताबिक, विक्टोरिया अस्पताल के 10 कोरोनावायरस मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल किया गया। दिलचस्प है कि सभी 10 मरीज इलाज के बाद नेगेटिव आए। 


यह क्लीनिकल ट्रायल 7 जून से 25 जून के बीच हुआ। इसमें 23 साल से लेकर 65 साल तक के लोग शामिल थे। इन सबमें Covid-19 का संक्रमण था। इसके साथ ही क्लीनिकल ट्रायल उन मरीजों पर भी किया गया जिन्हें किडनी, हार्ट या लंग्स की बीमारी थी। यह आयुर्वेदिक दवा सब पर असरदार रही।


राज्य सरकार ने इस क्लीनिकल ट्रायल को अगले चरण में ले जाने का फैसला किया है। आयुर्वेदिक डॉक्टर गिरिधर काजे (Dr Giridhar Kaje) की अगुवाई में यह क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। काजे ने कोरोनावायरस संक्रमण शुरू होने के साथ ही राज्य सरकार से क्लीनिकल ट्रायल के लिए निवेदन किया था। राज्य सरकार ने डॉक्टर काजे को 16 मई को क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति दी जिसके अच्छे नतीजे आए हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।