Vaccination Drive: सोमवार के रिकॉर्ड के बाद टीकाकरण में एकदम आई गिरावट, आंकड़ों पर उठ रहे सवाल

Covid Vaccination: सोमवार को 88 लाख वैक्सीन की खुराक देने के बेहतरीन रिकॉर्ड के बाद मंगलवार को इस आंकड़े में काफी गिरावट हुई
अपडेटेड Jun 23, 2021 पर 13:11  |  स्रोत : Moneycontrol.com

सोमवार के रिकॉर्ड 88 लाख वैक्सीन की खुराक देने के बाद देश भर में वैक्सीनेशन (Vaccination) के आंकड़े मंगलवार को घटकर 54.22 लाख हो गए। अब इस पर सवाल उठ रहे हैं कि क्या इतने बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन टिकाऊ है? इसके पीछे सप्लाई को बड़ा कारण माना जा रहा है। साथ ही ऐसे आरोप थे कि मध्य प्रदेश सहित कुछ राज्यों ने "मैजिक मंडे" हासिल करने के लिए कई दिनों तक वैक्सीन की खुराक जमा की थी।


सबसे ज्यादा खुराक देने वाले टॉप 10 राज्यों में से सात में बीजेपी की सरकार है। इस साल के अंत तक सभी वयस्कों को पूरी तरह से वैक्सीनेट करने के केंद्र के टारगेट को पूरा करने के लिए हर दिन वैक्सीन की करीब 97 लाख खुराक देने की जरूरत है। सप्लाई की मौजूदा स्थिति इस पर सवाल उठाती है कि क्या टारगेट पूरा किया जाएगा?


सरकार का दावा है कि उसके पास रोज की जरूरी संख्या में वैक्सीन को स्टोर करने और उसे लगाने की क्षमता है। नेशनल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) के अध्यक्ष डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा, "सरकार का टारगेट हर दिन 1 करोड़ लोगों को वैक्सीनेशन करना है। और हमारे पास प्रत्येक दिन 1.25 करोड़ खुराक रखने की क्षमता है।"


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि केंद्र इस मामले में राज्यों का पूरा सहयोग कर रहा है। उन्होंने कहा, "हम राज्य को एडवांस विजिबिलिटी दे रहे हैं। हम उन्हें बताते हैं कि अगले 15 दिनों में आपको कितनी खुराक मिलेगी। इसलिए राज्य बेहतर योजना बना सकते हैं।"


लेकिन सप्लाई में अंतर मध्य प्रदेश में साफ रूप से दिखाई देने लगा, जिस राज्य ने रिकॉर्ड 17 लाख खुराक देने की जानकारी दी। वह मंगलवार को शाम 6.30 बजे तक 5,000 से कम वैक्सीन की खुराक ही दे पाया। सोमवार के रिकॉर्ड के क्रम में, मध्य प्रदेश ने दैनिक टीकाकरण में भारी कटौती की थी, जो एक दिन पहले केवल 4,000 खुराक थी।


15 जून को 37,904 से, 20 जून को वैक्सीन की खुराक की संख्या घटकर 4,098 हो गई। इस गिरावट के ठीक अगले दिन 21 जून को, राज्य में 16,95,592 वैक्सीन खुराक दी गईं। हालांकि, सरकार ने इस बड़े आंकड़े को लाने के लिए वैक्सीन की जमाखोरी के आरोपों से इनकार कर दिया।


राज्य के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा, "टीकों की जमाखोरी का ऐसा कोई मुद्दा नहीं है।" उन्होंने कहा, "हो सकता है कि कुछ डेटा एंट्री के मामले हों, जो पहले कम संख्या को दिखा रहे हों। सोमवार को हमारे सभी वैक्सीनेशन आपकी आंखों के सामने किए गए। छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। आप जिस तरह के सवाल पूछ रहे हैं उससे मैं स्तब्ध हूं।"


उत्तर प्रदेश उन कुछ राज्यों में से एक है, जिसने मंगलवार को 7 लाख से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन कर सोमवार को अपने 6 लाख खुराक के रिकॉर्ड को पार कर लिया।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।