लाल किले पर दिखा आत्मनिर्भरता का जज्बा, DRDO का एंटी ड्रोन सिस्टम PM की सुरक्षा में रहा तैनात

ये ड्रोन छोटे से छोटे ड्रोन को तीन किलोमीटर के दायरे में आने से रोकता है और एक से ढाई किलोमीटर के दायरे में उसे लेजर की मदद से मार गिराने में सक्षम है।
अपडेटेड Aug 16, 2020 पर 15:20  |  स्रोत : Moneycontrol.com

प्रधानमंत्री द्वारा मेक इन इंडिया के नारे को पहले से ही खूब सराहा गया है। कोरोना संकट के कारण पीएम मोदी ने आत्मनिर्भरता का नारा भी दिया है क्योंकि ऐसे संकट से आत्मनिर्भरता से ही सफल लड़ाई लड़ी जा सकती है। इसलिए सरकार द्वारा VOCAL FOR LOCAL के संकल्प पर तेजी से काम हो रहा है। आज भारत के 74वें स्वतंत्रता दिन के अवसर पर लाल किले पर इसी आत्मनिर्भरता का जज्बा और दम दिखाई दिया जब देशी संस्थान DRDO द्वारा तैयार एंटी ड्रोन सिस्टम (Anti Drone System) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की सुरक्षा में रहा तैनात किया गया। ये ड्रोन छोटे से छोटे ड्रोन को तीन किलोमीटर के दायरे में आने से रोकता है और एक से ढाई किलोमीटर के दायरे में उसे लेजर की मदद से मार गिराने में सक्षम है।


पिछले महीने DRDO ने भारत (India) और चीन (China) के बीच चल रहे सीमा विवाद के बीच पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा की निगरानी के लिए सेना को भारत ड्रोन (Bharat Drone) दिया है। यह पूरी तरह से स्वदेशी ड्रोन है। रक्षा सूत्रों ने कहा, भारतीय सेना को पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चल रहे विवाद में सटीक निगरानी के लिए ड्रोन की जरूरत है। जिसके बाद डीआरडीओ ने सेना को यह ड्रोन सौंपा था। यह ड्रोन वास्तविक नियंत्रण रेखा की निगरानी के साथ ही ज्यादा ऊंचाई वाले क्षेत्रों और पहाड़ी इलाकों की सटीक निगरानी रखने में भारतीय सेना की सहायता करेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।