कोरोना संकट के बीच अगस्त में 10 लाख लोगों को मिली नौकरी, EPFO के आंकड़ों से हुआ खुलासा

शुद्ध रूप से EPFO के पास हर महीने औसतन करीब 7 लाख नए रजिस्ट्रेशन होते हैं
अपडेटेड Oct 21, 2020 पर 09:58  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस महामारी (CoronaVirus Pandemic) के बीच बेरोजगारी को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के लिए एक राहत भरी खबर है। EPFO (Employees Provident Fund Organisation) द्वारा जारी एक आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त महीने में 10 लाख लोगों को नौकरियां मिली हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) से अगस्त में शुद्ध रूप से 10.05 लाख अंशधारक जुड़े। वहीं, जुलाई में यह संख्या 7.48 लाख थी। EPFO के ताजा पेरोल (Payroll Data) यानी तय वेतनमान पर रखे जाने वाले कर्मचारियों के आंकड़े से यह खुलासा हुआ है। यह आंकड़ा कोरोना वायरस महामारी के बीच संगठित क्षेत्र में रोजगार की स्थिति के बारे में जानकारी देता है।


EPFO के पिछले महीने जारी अस्थायी पेरोल आंकड़े में इस साल जुलाई में शुद्ध रूप से जुड़ने वाले सदस्यों की संख्या 8.45 लाख बताई गई थी। इस आंकड़े को अब संशोधित कर 7.48 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Provident Fund Organisation) से शुद्ध रूप से फरवरी 2020 में जुड़ने वाले अंशधारकों की संख्या 10.21 लाख थी जो मार्च में घटकर 5.72 लाख रही।


अप्रैल में अंशधारकों की संख्या 1,04,608 घटी


मंगलवर को जारी ताजा आंकड़े के अनुसार, अप्रैल में शुद्ध रूप से अंशधारकों की संख्या 1,04,608 घटी, जबकि सितंबर में जारी आंकड़े में यह संख्या 61,807 थी। इससे पहले, जुलाई में जारी अस्थायी आंकड़े के अनुसार, शुद्ध रूप से अप्रैल महीने में एक लाख लोगों के EPFO से जुड़ने की बात कही गई थी, जिस अगस्त में संशोधित कर 20,164 कर दिया गया। वहीं, सितंबर में जारी आंकड़े के अनुसार इसमें 61,807 की कमी होने की बात कही गई। मई के आंकड़े को भी संशोधित किया गया है। इसके अनुसार EPFO के अंशधारकों की संख्या शुद्ध रूप से 35,336 कम हुई, जबकि इससे पिछले महीने के आंकड़े में इसमें 40,551 नए अंशधारकों के जुड़ने की बात कही गई थी।


हर महीने करीब 7 लाख होते हैं नए रजिस्ट्रेशन


शुद्ध रूप से EPFO के पास हर महीने औसतन करीब 7 लाख नए रजिस्ट्रेशन होते हैं। ताजा आंकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान नए अंशधारकों की कुल संख्या बढ़कर 78.58 लाख रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 61.12 लाख थी। EPFO अप्रैल, 2018 से नए अंशधारकों के आंकड़े जारी कर रहा है। इसमें सितंबर 2017 से आंकड़ों को लिया गया है। पेरोल आधारित इन आंकड़ों के अनुसार सितंबर, 2017 से अगस्त 2020 के दौरान शुद्ध रूप से 1.75 करोड़ नए अंशधारक EPFO से जुड़े।


EPFO के अनुसार पेरोल आंकड़े अस्थायी है और कर्मचारियों के रिकॉर्ड का अपडेट्स निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। इसे बाद के महीनों में अपडेट्स किया जाता है। ये अनुमान शुद्ध रूप से नए सदस्यों के जुड़ने पर आधारित हैं। यानी जो लोग नौकरी छोड़कर गए, उन्हें इसमें से हटा दिया गया। इसके बाद फिर जो कर्मचारी दोबारा से जुड़े, उन्हें इसमें शामिल किया गया। अनुमान में अस्थायी कर्मचारी भी शामिल हो सकते हैं, जिनका योगदान हो सकता है पूरे साल जारी नहीं रहे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।