Nirmala Sitharaman Press Conference: निर्मला सीतारमण के ऐलान की खास बातें

पीएम मोदी ने 12 मई को जिस 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया था उसकी तीसरी किस्त आज जारी होगी
अपडेटेड May 16, 2020 पर 16:58  |  स्रोत : Moneycontrol.com

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण आज 20 लाख करोड़ रुपए के तीसरे राहत पैकेज का ऐलान करने वाली हैं। अनुमान है कि आज फिशरीज सेक्टर को करीब 20 हजार करोड़ का पैकेज मिल सकता है। साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर पर भी सरकार का खास फोकस रहेगा।


4.59 PM


किसानों के लिए सुविधाजनक कानूनी ढांचा बनाने के लिए अहम कदम उठाया गया है ताकि किसानों की आमदनी बढ़ सके।


4.55 PM


एग्रीकल्चर मार्केटिंग रिफॉर्म्स में सुधार का ऐलान किया है। पहले किसानों को सिर्फ APMC को बेचना पड़ता था लेकिन अब यह मजबूरी खत्म हो गई। इससे किसानों को अच्छी कीमत मिल सकती है।


4.50 PM


इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े ऐलान


एशेंशियल कमोडिटीज यानी EC एक्ट 1955 में संशोधन किया जा रहा है। इससे किसानों की आमदनी बढ़ेगी। उन्हें अपना प्रोडक्ट कम दाम पर नहीं बेचना पड़ेगा। दलहन, अनाज प्याज, आलू, सरसो, खाद्य ऑयल जैसे उत्पादों को डीरेगुलेट किया जाएगा। किसानों को अपने इन उत्पादों के लिए अच्छी कीमत मिले इसलिए कृषि क्षेत्र को ज्यादा कॉम्पिटिटव बनाया जा रहा है। राष्ट्रीय आपदा जैसी सिचुएशन में सरकार कदम उठा सकती है।


4.47 PM


TOP यानी टमाटर प्याज और आलू की खेती के लिए जो सपोर्ट दिया जा रहा था उसे अब बढ़ाकर बाकी फल सब्जियों को भी दिया जाएगा। माला ढुलाई पर 50 फीसदी और कोल्ड स्टोरेज में रखने पर 50 फीसदी की सब्सिडी दी जा रही है। इसके लिए 500 करोड़ रुपए दिए गए हैं।


4.45 PM


मधुमक्खी पालन करने वाले किसानों के लिए 500 करोड़ रुपए का पैकेज दिया जा रहा है। ग्रामीण इलाकों में जो लोग मधुमक्खी पालन करते हैं उन्हें इससे सपोर्ट मिलेगा। 2 लाख मधुमक्खी पालन करने वाले लोगों की आमदनी बढ़ेगी। 


4.42 PM


हर्बल कल्टीवेशन के लिए 4000 करोड़ रुपए का फंड दिया जा रहा है। नेशनल मेडिसिनल प्लांट्स बोर्ड्स (NMPB)25 लाख हेक्टेयर में इसकी खेती होगी। इससे किसानों को 5000 करोड़ रुपए की आमदनी होगी। जन औषधि की खेती करने के साथ उसका नेटवर्क किया जा रहा है।


4.40PM


पशुपालन में बुनियादी ढांचा सुधारने के लिए विकास फंड बनाने का फैसला किया गया है। देश के कई इलाकों में दूध का उत्पादन ज्यादा होता है वहां प्राइवेट निवेश का भी विकल्प है। इस ढांचे के विकास के लिए 15,000 करोड़ रुपए का फंड दिया जा रहा है।


4.35 PM


भारत में सबसे ज्यादा पशु और पशुपालक हैं। 53 करोड़ पशुओं के टीकाकरण करने की योजना लाई गई है। इस पर 13,343 करोड़ रुपए खर्च होगा। पशुओं को उनकी कई बीमारियों से मुक्ती मिलेगी। इससे हमारे फूड प्रोडक्ट की डिमांड बढ़ेगी। दूध का भी उत्पादन बढ़ेगा। अभी तक 1.5 करोड़ गाय और भैसों का वैक्सीनेशन हो चुका है।


4.30 PM


वित्त रा्ज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, 2.5 लाख करोड़ कार्ड के जरिए 3 लाख किसानों की मदद की गई थी। अब प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत मछुआरों की मदद के लिए 11,000 करोड़ रुपए दिए जा रहे है। इससे 55 लाख से ज्यादा रोजगार बढ़ेंगे।


4.25 PM


माइक्रो फूड एंटरप्राइज के लिए सरकार 10,000 करोड़ रुपए का पैकेज दिया है। इसमें स्थानीय कंपनियों को सपोर्ट किया जाएगा। जैसे बिहार का मखाना, यूपी के आम, जम्मू-कश्मीर के केसर जैसे खेती में कलस्टर बनाया जाएगा।


4.20 PM


किसान निर्यात में मदद करते हैं लेकिन भंडारण की कमी और संवर्द्धन के लिए 1 लाख करोड़ रुपए का फंड दिया जाएगा। इससे कीमत बढ़ाने में भी मदद मिलेगी और किसानों की आय बढ़ेगी।


4.15 PM


1 लाख करोड़ रुपए एग्रीगेटर्स, FPO, फार्मर प्रोड्यूसर को दिए जाएंगे ताकि गोदाम, स्टोरेज सेक्टर बनाने में इस्तेमाल किया जाएगा।


4.12 PM


74300 करोड़ रुपए सरकारी खरीद के लिए दिए गए हैं। पीएम किसान फंड के तहक पिछले दो महीनों में 18700 करोड़ रुपए दिए गए हैं। पशुपालन भी किसानों का अहम हिस्सा है। लिहाजा पशुपालक की  मदद के लिए सरकार ने हर दिन 560 लाख लीटर दूध कोऑपरेटिव्स ने खरीदा है। पीएम फसल बीमा योजना के तहत 6400 करोड़ रुपए का पेमेंट किया गया है।


4.10 PM


सीतारमण ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान ऐसे प्रावधान किए ताकि रबी फसल की कटाई हो सके। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए प्रोक्योरमेंट भी किया जा रहा है। पिछले दो महीने में लॉकडाउन के दौरान कृषि को सरकार ने पूरी तरह सपोर्ट किया है।


4.05 PM


सीतारमण ने कहा कि देश की ज्यादातार आबादी खेती से जुड़ी हुई है। लिहाजा उस सेक्टर पर फोकस करना जरूरी है। कृषि और उससे जुड़े कामकाज के लिए आज का पैकेज जारी किया जा रहा है।


4.00 PM


निर्मला सीतारमण ने कहा कि आज कुल 11 उपायों का ऐलान किया जाएगा जिनमें से 8 का मकसद स्टोरेज और लॉजिस्टिक्स को बेहतर बनाना है। बाकी तीन फैसले गवर्नेंस और एडमिनिस्ट्रेटिव सुधार के लिए लिए गए हैं.


4.00 PM


फाइनेस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण आज कई बड़े ऐलान कर सकती हैं। इसमें सबसे बड़ा हिस्सा खेती, फिशरीज यानी मछली पालन में लगे लोगों के लिए आ सकता है। उम्मीद है कि वो कुछ सेक्टर से जुड़े फैसले भी ले सकती हैं।


3.45 PM


निर्मला सीतारमण ने कल ऐलान किया था कि पूरे देश में 12 हजार सेल्फ हेल्प ग्रुप 3 करोड़ ने मास्क और सैनिटाइजर बनाए हैं। ये सेल्फ हेल्प ग्रुप केंद्र की मदद से ये कर रहे हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि 15 मार्च से अब तक 7200 नए सेल्फ हेल्प ग्रुप बनाए गए हैं।


3.40 PM


सीतारमण ने ऐलान किया था कि किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए बैंक के जरिए 86,000 करोड़ रुपए के कुल 63 लाख लोन पास हुए हैं। नाबार्ड, ग्रामीण बैंक और कोऑपेरटिव्स  के जरिए 29,500 रुपए की रीफाइनेंसिंग हुई है।


3.35 PM


राहत पैकेज की दूसरी किस्त में किसान, प्रवासी मजदूर, स्ट्रीट वेंडर्स और अफोर्डेबल हाउसिंग पर फोकस रहा। जबकि पहले चरण में MSMEs पर फोकस करते हुए राहत पैकेज का ऐलान किया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।