सरकार जल्द ही एक्सपोर्टर्स के लिए शुरू करेगी 24X7 हेल्पलाइन: पीयूष गोयल

गोयल ने कहा कि Covid-19 की शुरुआत के दौरान सरकार ने व्यापारियों के लिए 24×7 हेल्पलाइन शुरू की थी
अपडेटेड Sep 20, 2021 पर 22:04  |  स्रोत : Moneycontrol.com

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने नोएडा विशेष आर्थिक क्षेत्र में राष्ट्रीय वनिज्य सप्ताह की शुरुआत करते हुए कहा कि सरकार जल्द ही एक्सपोर्टर्स के लिए 24×7 हेल्पलाइन नंबर शुरू करेगी, जहां वे शिकायतों का निवारण कर सकते हैं। गोयल ने कहा कि Covid-19 की शुरुआत के दौरान सरकार ने व्यापारियों के लिए 24×7 हेल्पलाइन शुरू की थी, लेकिन अब हमने महसूस किया कि एक्सपोर्टर्स के मुद्दों को हल करने के लिए इसे एक समान 24x7 हेल्पलाइन शुरू करने की जरूरत है।


उन्होंने कहा कि अगर जरूरत हुई, तो ये एक्सपोर्टर्स के मुद्दों को उच्च स्तर तक बढ़ा देगा। सरकार जल्द ही हेल्पलाइन नंबर लेकर आएगी। आज वनिज्य सप्ताह अभियान की शुरुआत पीयूष गोयल ने नोएडा सेज में की।


इसकी घोषणा करते हुए गोयल ने कहा कि यह वनज्य सप्ताह लगभग 749 जिलों में आयोजित किया जाएगा। देश के सबसे बड़े राज्य जो प्रगति की ओर तेजी से बढ़ रहा है, उनसे इस अभियान की शुरुआत करते हुए हमें गर्व हो रहा है।


उत्तर प्रदेश हवाई अड्डों, रेलवे, मल्टी-मॉडल ट्रांसपोर्ट हब, जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास में अच्छा कर रहा है। उत्तर प्रदेश ने 2018-19 में इज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग 12 से दूसरे स्थान पर सुधार की है।


वनिज्य सप्ताह के जरिए हम अपने एक्सपोर्टर्स और व्यापारिक समुदाय के विश्वास को कायम कर रहे हैं। प्रोडक्ट स्कीम पर UP एक जिले में बहुत अच्छा कर रहा है। हमें अपनी क्वालिटी और प्रोडक्टिविटी में सुधार करना है और टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से हमारा ध्यान अपने प्रोडक्ट्स को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाने पर होना चाहिए।


कंटेनरों की कमी पर एक सवाल के जवाब में वाणिज्य मंत्री ने कहा, "हम अपने किसानों को उनके उत्पादों के लिए विपणन सहायता प्रदान करते हैं जो निर्यात किए जाते हैं। हमने इस मार्केटिंग सहायता को बढ़ाया है ताकि हमारे किसानों को जरूरी सहायता मिल सके। हम इस मुद्दे पर रेल और जहाजरानी मंत्रालय के कैबिनेट सचिव से भी चर्चा कर रहे हैं।"


उन्होंने कहा, "कंटेनरों की कमी एक ग्लोबल मुद्दा है इसके बावजूद हमारी सरकार कुछ समाधान लाने और देश में कंटेनरों की उपलब्धता बढ़ाने की कोशिश कर रही है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।