Covishield की दो खुराकों के बीच का गैप बढ़ाकर 12-16 हफ्ते किया गया, पढ़िए पूरी डिटेल

इससे पहले 6 से 8 हफ्तों के बीच दूसरी डोज लेनी होती थी, लेकिन अब कोविशील्ड की दूसरी डोज 12 से 16 हफ्तों के बीच में लिया जा सकेगा
अपडेटेड May 14, 2021 पर 09:00  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस वैक्सीनेशन अभियान से जुड़े नियमों में बदलाव किया गया है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) की दो खुराक दिए जाने के बीच के गैप को बढ़ाकर 12-16 हफ्ते कर दिया गया है। अभी कोविशील्ड की दो खुराकों के बीच का अंतराल चार से आठ हफ्ते था।


केंद्र सरकार ने गुरुवार को वैक्सीन के दो खुराक के बीच के अंतर को बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने के एक विशेषज्ञ पैनल द्वारा की गई सिफारिश को स्वीकार कर लिया। इससे पहले 6 से 8 हफ्तों के बीच दूसरी डोज लेनी होती थी, लेकिन अब कोविशील्ड की दूसरी डोज 12 से 16 हफ्तों के बीच में लिया जा सकेगा।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा कि कोविशील्ड वैक्सीन के दो खुराक के बीच के गैप को 6 से 8 हफ्ते से बढ़ाकर 12 से 16 हफ्ते कर दिया गया है। ये फैसला कोविड वर्किंग ग्रुप की तरफ से की गई सिफारिशों के आधार पर लिया गया है।


सरकार के राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) ने कोविशील्ड वैक्सीन की दो खुराकों के बीच अंतर बढ़ाकर 12-16 हफ्ते करने की सिफारिश की थी। कोवैक्सिन की खुराकों के बीच अंतराल में किसी तरह के बदलाव की अनुशंसा नहीं की गई है। यह फैसला ऐसे समय में की गई है जब कई राज्यों ने वैक्सीन की कमी की बात कही है।


NTAGI ने यह भी सुझाव दिया है कि गर्भवती महिलाओं को किसी भी कोरोना वैक्सीन लेने का विकल्प दिया जा सकता है और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रसव के बाद किसी भी समय वैक्सीन लगाया जा सकता है। इसके साथ ही NTAGI ने यह भी कहा है कि संक्रमितों को रिकवरी के छह महीने बाद तक कोरोना वैक्सीनेशन से बचना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.