राष्ट्र की प्रगति के लिए महिलाओं को सशक्त बनाना होगाः दीपाली गोयनका, CEO, वेलस्पन इंडिया

वेलस्पन इंडिया का बिजनेस पिछले कुछ वर्षों में तेजी से बढ़ा है। कंपनी एक्सपोर्ट के साथ ही डोमेस्टिक मार्केट में भी अच्छी बिक्री करती है
अपडेटेड May 10, 2021 पर 10:21  |  स्रोत : Moneycontrol.com

होम टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स सेगमेंट में देश से सबसे अधिक एक्सपोर्ट करने वाली कंपनी वेलस्पन इंडिया लिमिटेड (WIL) की CEO और मैनेजिंग डायरेक्टर, दीपाली गोयनका का कहना है कि कोरोना महामारी से दुनिया के सामने कई दशकों की सबसे बड़ी चुनौती आई है और उनकी कंपनी पर भी इसका असर पड़ा है।


लेकिन, इसके साथ ही उन्होंने कहा, "संकट की स्थिति इनोवेशन करने का अच्छा मौका होती है। वेलस्पन ने बदली हुई स्थिति के अनुसार अपने एंप्लॉयीज, प्रोडक्ट्स और प्रोसेस में बदलाव किया है।" संकट के दौरान एंप्लॉयीज और समुदायों पर ध्यान देना एक अच्छी चीज है और इससे बिजनेस भी अच्छा होता है।


पिछले वर्ष कोरोना के मामले बढ़ने पर देश भर में लगाए गए लॉकडाउन के बाद WIL का शेयर प्राइस 19.70 रुपये के साथ पांच वर्ष के निचले स्तर पर चला गया था लेकिन बाद में इसने तेजी की राह पकड़ी और इस वर्ष अप्रैल में यह 84.95 रुपये पर पहुंचा था। कंपनी की नेट इनकम दिसंबर क्वॉर्टर की समाप्ति पर पिछले वर्ष के जून क्वॉर्टर के मुकाबले लगभग दोगुनी हो गई।


WIL को कुछ इंटरनेशनल अवॉर्ड भी मिले हैं। इनमें टेस्को का कोरोना के दौरान मदद के लिए वैल्यू अवॉर्ड और वॉलमार्ट प्राइवेट ब्रांड सप्लायर ऑफ द ईयर अवॉर्ड शामिल हैं।


होम टेक्सटाइल्स के अलावा पाइप, इंफ्रास्ट्रक्चर डिवेलपमेंट, ऑयल एंड गैस जैसे बिजनेस से जुड़े 3 अरब डॉलर के वेलस्पन ग्रुप के चेयरमैन बी की गोयनका की पत्नी होने के बावजूद दीपाली को बिजनेस में अपना रास्ता खुद बनाना पड़ा था।


वेलस्पन की शुरुआत 1985 में महाराष्ट्र के पालघर में एक टेक्सटाइल मिल के तौर पर हुई थी। दीपाली का बी के गोयनका से विवाह 1987 में हुआ और वह 2002 में वेलस्पन से जुड़ी थी।


दीपाली ने बताया, "मेरे पास बिजनेस का पहले से कोई अनुभव नहीं था। मेरे पास केवल उत्साह, सीखने की इच्छा और मजबूत इरादा था। महिलाओं के लिए बिजनेस में काफी अवसर हैं और अगर आपके पास सही स्किल्स और सोच है तो सफलता मिल जाएगी। लेकिन मैंने अपनी यात्रा में कई मुश्किलों का भी सामना किया।"


उनका कहना है, "मैं मानती हूं कि अगर आप चाहते हैं राष्ट्र प्रगति करे तो आपको महिलाओं को सशक्त बनाना होगा। भारत में महिलाओं के लिए रोजगार बढ़ाने की जरूरत है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।