IIP की ग्रोथ जून -16.6% रही, लॉकडाउन में ढील से बढ़ा प्रोडक्शन

इससे पहले मई में IIP की ग्रोथ -34 फीसदी थी, लॉकडाउन खुलने से मैन्युफैक्चरिंग में तेजी आई है
अपडेटेड Aug 12, 2020 पर 10:10  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोनावायरस को रोकने लिए देशव्यापी लागू लॉकडाउन में दी जा रही ढील के बाद भारत का फैक्ट्री उत्पादन (factory output) वापसी के संकेत दे रहे हैं। जून महीने में भारत की फैक्ट्री उत्पादन -16.6 फीसदी रही है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (National Statistical Office) द्वारा मंगलवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, मई में -34 फीसदी के मुकाबले जून में  index of industrial production (IIP) -16.6 फीसदी रही। कोविड-19 के प्रकोप के कारण मांग की स्थिति कमजोर बनी हुई है, जिसका असर भारत के मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र के उत्पादन पर लगातार जुलाई महीने में भी देखने को मिला है। आंकड़ों से पता चलता है कि इस दौरान कंपनियों ने स्टाफ की संख्या में कमी की है और खरीदी गतिविधि में भी कटौती की है।


IHS Market के मुताबिक, कोरोना वायरस बीमारी के नकारात्मक प्रभाव जारी रहने के बावजूद भविष्य की गतिविधि के प्रति भावना में लगातार दूसरे महीने सुधार हुआ है। परिणामस्वरूप मौसम के अनुसार समाजित पीएमआई रीडिंग जून के 47.2 प्रतिशत से गिरकर 46 हो गई, जो भारतीय विनिर्माण सेक्टर में कारोबारी दशा में एक उल्लेखनीय गिरावट को दर्शाती है।


यह गिरावट आंशिक रूप से उत्पादन में एक Excess contraction के कारण हुई है। अप्रैल और मई की तुलना में काफी सॉफ्ट दर रिडक्शन जून में तेज हो गई और कुल मिलाकर तीव्र थी। वास्तविक सबूत संकेत करते हैं कि कंपनियों ने मांग की कमजोर स्थिति के कारण उत्पादन में कटौती की है। मांग की कमजोर स्थिति का पता Manufacturers द्वारा जुलाई में दिए गए नए आर्डर में एक और उल्लेखनीय गिरावट से चलता है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।