India-China border Faceoff: सरकार ने LAC पर सेना को दी ज्यादा छूट, जानिए क्या नियम बदले

सरकार ने भारतीय सेना को अब यह अधिकार दिया है कि चीन के उकसावे पर वह अपने हिसाब से मामले से निपट सकते हैं
अपडेटेड Jun 22, 2020 पर 13:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत सरकार ने चीन के साथ लगे 3488 किलोमीटर लंबी सीमा पर मुठभेड़ और हिंसक झड़प को देखते हुए नियमों में बदलाव किया है। सरकार ने भारतीय सेना को अब यह अधिकार दिया है कि चीन के उकसावे पर वह अपने हिसाब से मामले से निपट सकते हैं। इस मामले की जानकारी रखने वाले एक शख्स ने बताया कि डिफेंस मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने रविवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के साथ मुलाकात के बाद नियम बदलने की मंजूरी दी है।


लाइव मिंट के मुताबिक, नाम जाहिर ना करने की शर्त पर शख्स ने बताया, "LAC (लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) पर अब सेना को किसी भी हालात से निपटने की पूरी आजादी है।" भारत और चीन के बीच 1996 में एक समझौता हुआ था जिसके तहत सीमा पर किसी भी देश के सौनिक गोली ( Firearms) नहीं चलाएंगे।


पूर्व आर्मी चीफ वीके सिंह ने नियम बदलने पर कहा, "मुझे खुशी है कि चीन के साथ मुठभेड़ के नियम बदल गए हैं। पिछले कुछ साल से चीन जिस तरह बर्ताव कर रहा था उसे देखते हुए इसे बदलना जरूरी था। इससे हमारे सैनिक जरूरत पड़ने पर सेल्फ डिफेंस कर सकते हैं।"


15 जून की रात भारत और चीन के सैनिकों में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत को यह नियम बदलना पड़ा। इस हिंसक झड़प में भारत के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए। इसके साथ ही 76 सैनिक घायल हुए थे।


सरकार ने आर्मी के तीन विंग को हथियार और गोला-बारूद खरीदने के लिए 500-500 करोड़ रुपये तक की अतिरिक्त सहायत भी देने का ऐलान किया है।  सूत्रों ने बताया कि बैठक में रक्षा मंत्री ने पूर्वी लद्दाख तथा अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh), सिक्किम (Sikkim), उत्तराखंड (Uttarakhand) और हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में LAC पर सभी संवेदनशील क्षेत्रों की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की है। डिफेंस मिनिस्टर राजनाथ सिंह के साथ इस बैठक में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत, थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया भी बैठक में शामिल थे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।