गलवान घाटी सहित तीन जगहों से भारत-चीन की सेना 1.5 km पीछे हटी: सूत्र

सरकारी सूत्रों ने सोमवार को बताया कि जिन तीन जगहों पर विवाद था चीन की सेना उससे 1.5 किलोमीटर पीछे चली गई है
अपडेटेड Jul 06, 2020 पर 18:29  |  स्रोत : Moneycontrol.com

India-China Border Standoff। भारत-चीन के बीच चल रही मिलिट्री लेवल की बातचीत से मामला सुलझने का पहला संकेत नजर आया है। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने LAC (Line of Actual Control) से पीछे हटी है। सरकारी सूत्रों ने सोमवार को बताया कि जिन तीन जगहों पर विवाद था चीन की सेना उससे 1.5 किलोमीटर पीछे चली गई है। इसमें पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी का इलाका भी शामिल है जहां 15 जून को  दोनों देशों के बीच झड़प हुई थी। हालांकि इस इलाके से सिर्फ चीन की सेना नहीं बल्कि भारत की सेना भी 1.5 किलोमीटर पीछे हटी है। यहां एक बफर ज़ोन बना दिया गया है।


हालांकि अभी तक यह पता नहीं चला है कि दोनों देशों के सैनिक आपसी सहमति से कितना पीछे जाएंगे। पिछले दो महीनों से गलवान वैली, हॉट स्प्रिंग्स एरिया (Hot Springs Area) और गोगरा (Gogra) के इलाके में बड़ी संख्या में चीन सेना और हथियार जमा कर रहा था। हालात की गंभीरत को देखते हुए दोनों देशों के बीच जून में मिलिट्री लेवल की बातचीत शुरू हुई।


LAC पर भारत और चीन के सैनिकों ने एक बफर ज़ोन तैयार कर लिया है। इलाके के सर्वे के बाद यह पक्का हुआ है की चीन की सेना पीछे हटी है। 30 जून को दोनों देशों के बीच कॉर्प्स कमांडर लेवल की बातचीत हुई थी। उसके बाद चीन ने पेट्रोलिंग प्वाइंट 14, 15 और 17 से पीछे हटने के लिए कई पैरामीटर पर सहमत हुआ था।


एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि चीनी सेना गलवान वैली के पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 से पीछे हट चुकी है। अभी तय यह इलाका भारत-चीन के बीच हिंसक झड़प का केंद्र बना हुआ था। 15 जून की रात चीन के सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल सहित भारत के 20 जवान शहीद हो गए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।