India china faceoff: गृह मंत्रालय ने संसद को बताया, पिछले 6 महीनों में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं हुई

राजनाथ सिंह ने मंगलवार को लोकसभा में चीन के साथ सीमा विवाद पर बयान देते हुए कहा था कि चीन की तरफ से यथास्थिति बदलने का प्रयास किया गया, लेकिन हमारे जवानों की मुस्तैदी ने उसके मंसूबों को नाकाम कर दिया
अपडेटेड Sep 16, 2020 पर 15:40  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने पिछले छह महीने में चीनी सैनिकों द्वारा देश की सीमा में घुसपैठ करने से इनकार किया है। संसद के मॉनसून सत्र (parliament monsoon session) में राज्यसभा को चीन की तरफ से हुई घुसपैठ की जानकारी देते हुए गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय (Nityanand rai) ने बताया कि पिछले 6 महीनों में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं हुई है। जबकि, लद्दाख में LAC पर भारत और चीन के बीच लंबे समय से सैन्य गतिरोध (India china faceoff) जारी है। दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच झड़प की खबरें आ रही हैं। वहीं, इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को लोकसभा में चीन के साथ सीमा विवाद पर बयान देते हुए कहा था कि चीन की तरफ से यथास्थिति बदलने का प्रयास किया गया, लेकिन हमारे जवानों की मुस्तैदी ने उसके मंसूबों को नाकाम कर दिया। राजनाथ सिंह ने लोकसभा को बताया था कि  सरकार और सेना किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।

पाकिस्तान ने 47 बार की घुसपैठ की कोशिश

राज्यसभा में सांसद डॉ. अनिल अग्रवाल ने पूछा था कि पिछले छह महीने में चीन और पाकिस्तान ने भारत में कितनी बार घुसपैठ की है। इसका जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री ने कहा कि फरवरी से अब तक पाकिस्तान ने 47 बार घुसपैठ करने की कोशिश की है। उन्होंने बताया कि फरवरी में पाकिस्तान ने घुसपैठ की कोई कोशिश नहीं की। वहीं, मार्च में चार बार, अप्रैल में 24 बार, मई में 8 बार और जुलाई में 11 बार घुसपैठ की कोशिश हुई। जून मे घुसपैठ की कोशिश नहीं की गई। वहीं, चीन ने भारत में इस दौरान घुसपैठ नहीं की है। दोनों देशों के बीच LAC पर सीमा को लेकर विवाद है, लेकिन भारतीय सीमा में PLA घुसपैठ करने में सफल नहीं हुआ है।

बयान पर शुरू हुआ विवाद

चीन द्वारा भारतीय सीमा में घुसपैठ नहीं करने का बयान देने पर गृह मंत्रालय विवादों में आ गया है। गृह मंत्रालय का यह बयान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान से एकदम उलट है। राजनाथ सिंह ने मंगलवार को लोकसभा में कहा था कि लद्दाख में LAC पर चीन की तरफ से यथास्थिति बदलने का प्रयास किया गया, लेकिन नित्यानंद राय कह रहे हैं कि चीन ने घुसपैठ की ही नहीं। ऐसे में ये दोनों बयान विरोधाभाषी हैं। लद्दाख में मई से ही दोनों देशों के बीच तनाव जारी है। कई बार इंडियन आर्मी और चीन के PLA के बीच झड़प की खबरें आई हैं। नित्यानंद राय के इस बयान पर विपक्ष अब हमलावर हो गया है और सरकार से स्पष्टीकरण की मांग कर रहा है। हालांकि, गृह मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि राजनाथ सिंह और नित्यानंद राय के बयान विरोधाभाषी नहीं है, क्योंकि घुसपैठ शब्द आतंकियों द्वारा देश की सीमा में घुसने के लिए इस्तेमाल होता है। 

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।