साल के अंत तक सभी को वैक्सीन लगाने की तैयारी में सरकार, दिसंबर तक 216 करोड़ डोज होगी उपलब्ध

वैक्सीन की कमी के बाद दिल्ली समेत कई राज्यों में वैक्सीनेशन सेंटर को बंद भी करना पड़ा है
अपडेटेड May 14, 2021 पर 10:02  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारत में जल्दी ही कोरोना वायरस के वैक्सीन की किल्लत दूर हो सकती है। दिसंबर तक देश के सभी नागरिकों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए भारत के पास पर्याप्त मात्रा में डोज उपलब्ध होगी। अगले सप्ताह तक रूस में बनी वैक्सीन स्पूतनिक V भारत में उपलब्ध होगी, इसके साथ ही सरकार ने ये भी साफ कर दिया है कि अगस्त से दिसंबर के बीच पांच महीनों में देश में दो अरब से अधिक डोज उपलब्ध कराई जाएंगी, जो पूरी आबादी का वैक्सीनेशन करने के लिए पर्याप्त हैं।


नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि भारत और देश के लोगों के लिए देश में पांच महीनों में दो अरब डोज (216 करोड़) बनाई जाएंगी। इसके बाद वैक्सीन सभी के लिए उपलब्ध होगा। जिसमें 55 करोड़ डोज कोवैक्सीन, 75 करोड़ कोविशील्ड, 30 करोड़ बायो ई सब युनिट वैक्सीन, 5 करोड़ जायडस कैंडिला डीएनए, 20 करोड़ नोवा वैक्सीन, 10 करोड़ भारत बायोटेक नोवा वैक्सीन, 6 करोड़ जिनोवा, और स्पूतनिक V की 15 करोड़ डोज उपलब्ध होगी।


बता दें कि दिल्ली, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों ने केंद्र के सामने वैक्सीन की कमी का मुद्दा उठाया था। वैक्सीन की कमी के बाद दिल्ली समेत कई राज्यों में वैक्सीनेशन सेंटर को बंद भी करना पड़ा है। नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने कहा कि भारत और देश के लोगों के लिए देश में पांच महीनों में दो अरब डोज (216 करोड़) बनाई जाएंगी। वैक्सीन सभी के लिए उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि अगले साल की प्रथम तिमाही तक यह संख्या तीन अरब होने की संभावना है।


वहीं, देश में कोरोना के देसी वैक्सीन कोवैक्सीन के प्रोडक्शन को बढ़ाने के लिए सरकार दूसरी कंपनियों को आमंत्रित करने के लिए तैयार हो गई है। गुरुवार को डॉ. पॉल ने कहा कि कोवैक्सीन का प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए सरकार अन्य कंपनियों को आमंत्रित करने के लिए तैयार है।


पॉल ने बताया कि जॉनसन एंड जॉनसन का कहना है कि वह अपने तरीके से काम कर रहे हैं। भारत में इस साल की तीसरी तिमाही में वैक्सीन की उपलब्धता हो सकती है। हम उनसे संपर्क में हैं। हमें उम्मीद है कि वे भारत में टीकों की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए काम करेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें.