झारखंड के 5 जिलों में एक महीने में जंगली हाथी 9 लोगों की ले चुके हैं जान, ग्रामीणों में दहशत

हाथियों के झुंड के अनगड़ा एवं सिल्ली प्रक्षेत्र में संभावित प्रवेश को लेकर वन विभाग अलर्ट मोड पर है
अपडेटेड May 12, 2021 पर 19:16  |  स्रोत : Moneycontrol.com

झारखंड के धनबाद समेत राज्य के पांच जिलों में जंगली हाथियों ने अप्रैल की शुरुआत से अब तक कथित तौर पर नौ लोगों की हत्या कर चुकी हैं। यह घटना हाथियों का पीछा करना या पत्थरों से पत्थर मारना या हाथी के साथ सेल्फी लेते हुए हुई। वन विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। इस घटना के बाद ग्रामीणों में दहशत फैल गया है।


ताजा मामला कामडरा प्रखंड क्षेत्र का है जहां जंगली हाथी को गांव से खदेड़ने के दौरान गांव कुरमुल एवं बंहनी बॉर्डर पर हाथी ने रामतोलया निवासी जयंत टोपनों नामक युवक को उठा कर पटकने के बाद नुकीले दांतो से हमला कर मार डाला। यह घटना सोमवार की रात लगभग 10 बजे के आसपास की है। बताया जा रहा है कि प्रखंड क्षेत्र के गांव रामतोलया में सोमवार के शाम लगभग छह बजे के आस-पास दो जंगली हाथी आ धमें थे। 


इसके बाद ग्रामीण हाथी को भगाने का प्रयास कर रहे थे। बंहनी एवं कुरमूल की ओर खदेड़ने के दौरान हेरमन तोपनो के टांड़ के निकट झाड़ी में खड़े एक हाथी ने जयंत तोपनो को सूढ़ में लपेट लिया और उठाकर पटक दिया और नुकीले दांतों से हमला कर मौत के घाट उतार दिया। घटना के बाद जंगली हाथी तोरपा गिड़ूम जंगल की ओर निकल गए।


इस बीच हाथियों के झुंड के अनगड़ा एवं सिल्ली प्रक्षेत्र में संभावित प्रवेश को लेकर वन विभाग अलर्ट मोड पर है। ग्रामीणों के जान-माल का नुकसान न हो इसके लिए विभाग द्वारा तैयारियां की जा रही है। हाथियों को इलाके से भगाने के लिए तीन हाथी भगाओ दस्ता तैयार किया गया है। साथ ही जिन गांवों में आशंका है कि वहां पर हाथियों का झुंड उत्पात मचा सकता है। वहां पर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। ग्रामीणों के बीच वितरण के लिए पटाखे, टॉर्च सहित अन्य सामग्री का स्टॉक किया गया है।


हाथियों का एक झुंड भोजन की तलाश में बंगाल से चलकर अनगड़ा-सिल्ली के जंगलों में आता रहा है। इस क्षेत्र में हाथियों को पर्याप्त मात्रा में महुआ, गरमा धान, कटहल एवं बास करील खाने को मिल जाता है। लोग इन सामग्री को अपने-अपने घरों में इक्टठा करते है। हाथियों का झुंड ऐसे घरों को ध्वस्त कर अपना भोजन करते हैं। 


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।