Kulbhushan Jadhav Case: कुलभूषण को भारतीय वकील नहीं देगा पाकिस्तान, खारिज की क्वींस काउंसल की मांग

इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने पाकिस्तान की सरकार को निर्देश दिया था कि वह भारत को जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए वकील नियुक्त करने का एक और मौका दे
अपडेटेड Sep 20, 2020 पर 13:32  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कुलभूषण जाधव मामले (Kulbhushan Jadhav Case) में पाकिस्तान अपनी मनमानी पर अड़ा है और इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) के फैसले का सम्मान नहीं कर रहा है। कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में न्याय मिल सके और इस मामले में निष्पक्ष सुनवाई हो, इसके लिए भारत ने पाकिस्तान से मांग की थी कि वह कुलभूषण जाधव का केस किसी भारतीय वकील को लड़ने की इजाजात दे या फिर क्वींस काउंसल के रिक्वेस्ट की स्वीकार करे। लेकिन, पाकिस्तान ने भारत की इन दोनों मांगों को खारिज कर दिया है और वह कुलभूषण जाधव मामले में एकतरफा फैसला सुनाने पर आमादा है। भारत ने सीनियर एडवोकेट हरीश साल्वे को कुलभूषण के वकील के तौर पर क्वींस काउंसल (QC) नियुक्त करने का प्रस्ताव दिया था। हरीश साल्वे इंग्लैंड और वेल्स की कोर्ट्स में भी QC हैं।

भारत ने जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में मौत की सजा पाए अपने नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव की सजा पर पुनर्विचार की अपील की है। भारत ने मांग की थी कि जाधव की सजा पर पुनर्विचार के लिए स्वतंत्र और निष्पक्ष सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए एक भारतीय वकील या क्वींस काउंसल को नियुक्त करना चाहिए। इस पर पाकिस्तान ने साफ इनकार कर दिया है। भारत की मांग को खारिज करते हुए पाकिस्तान ने कहा है कि ऐसा बिल्कुल मुमकिन नहीं है। आपको बता दें कि इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने पाकिस्तान की सरकार को निर्देश दिया था कि वह भारत को जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए वकील नियुक्त करने का एक और मौका दे।

भारत की मांग प्रैक्टिकल नहीं: पाक

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जाहिद हफीज चौधरी ने कहा कि भारत जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए पाकिस्तान के बाहर के वकील की अनुमति देने की लगातार अवास्तविक मांग कर रहा है। हमने भारत को सूचित किया है कि केवल उन्हीं वकीलों को पाकिस्तानी अदालतों में उपस्थित होने की अनुमति है जिनके पास पाकिस्तान में लॉ प्रैक्टिस का लाइसेंस है। यह अंतरराष्ट्रीय लॉ प्रैक्टिस के मुताबिक है। इस स्थिति में कोई बदलाव नहीं हो सकता है। पाकिस्तान में कोई ऐसा वकील ही केस लड़ सकता है जिसके पास पाकिस्तान की बार काउंसिल का लाइसेंस हो।

क्या होता है क्वींस काउंसल

क्वींस काउंसल (Queens Counsel) एक ऐसा वरिष्ठ वकाल होता है, जिसे ब्रिटेन में लॉर्ड चांसलर की सिफारिश पर ब्रिटिश महारानी के लिए नियुक्त किया जाता है। वकालत के पेशे में उत्कृष्ठ योगदान करने वाले वकीलों की नियुक्ति इस पद पर की जाती है। इस साल जनवरी में हरीश साल्वे को औपचारिक तौर पर ब्रिटिश महारानी और राजपरिवार के वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में क्वींस काउंसल नियुक्त किया गया है। उन्हें इंग्लैंड एंड वेल्स कोर्ट के लिए महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का वरिष्ठ वकील बनाया गया है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।