राम मंदिर के भूमिपूजन के बाद से अयोध्या में दोगुनी हुई जमीन की कीमतः रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये आदेश के बाद से अयोध्या में जमीन की कीमतें बढ़नी शुरू हो गई थी।
अपडेटेड Sep 22, 2020 पर 08:18  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोना वायरस के कारण लगाये गये लॉकडाउन के कारण जहां प्रॉपर्टी की कीमतें नीचे गिरी हुई हैं वहीं दूसरी तरफ अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर के लिए भूमिपूजन किये  जाने के बाद प्रॉपर्टी की कीमतों में जोरदार उछाल देखने को मिला है तब से लेकर आज तक अयोध्या में जमीन की कीमतें दोगुने स्तर पर पहुंच गई है।


टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये आदेश के बाद से अयोध्या में जमीन की कीमतें बढ़नी शुरू हो गई थी। प्रॉपर्टी कंसल्टेंट ऋषि टंडन के मुताबिक अयोध्या के अंदरूनी इलाकों में जमीन की कीमतें 1000 से 1500 प्रति वर्ग फुट जबकि शहरी इलाकों में 2000 से 3000 प्रति वर्ग फुट हैं। वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के पहले अयोध्या में जमीन के भाव 900 रुपये प्रति वर्ग फुट थे।


हालांकि जमीनों की मांग और कीमतें बढ़ने के बावजूद निवेशकों को उनके निवेश के फ्रोजन हो जाने की चिंता लगी हुई है क्योंकि उन्हें लगता है कि राज्य सरकार द्वारा कभी भी विविध प्रोजेक्ट्स के लिए उनकी जमीनों का अधिग्रहण किया जा सकता है।


बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर 2019 को ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए राममंदिर-बाबरी मस्जिद के विवाद को समाप्त कर दिया था। उसके बाद इस साल 5  अगस्त को प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आरएसएस चीफ मोहन भागवत और अन्य की उपस्थिति में अयोध्या में राममंदिर के लिए भूमिपूजन किया था।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।