लॉकडाउन 4.0 में कई छूट: पिछले 24 घंटों में 5000 नए मामले, अब क्या होगा नया आंकड़ा

आज से कई छूट मिल रही है दूसरी तरफ संक्रमण अपने पीक पर पहुंचता जा रहा है, क्या होगा आगे?
अपडेटेड May 18, 2020 पर 13:11  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देशभर में आज से तमाम छूट के साथ लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू हो गया है जो 31 मई तक जारी रहेगा। सरकार ने आज से रेड ज़ोन में भी आर्थिक गतिविधियों की इजाजत दे दी है। ऐसे में आगे संक्रमण का दायरा कहां तक बढ़ेगा इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। पिछले 24 घंटों में देश भर में संक्रमण के 5000 से ज्यादा मामले आए हैं। यह अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है।


इस हफ्ते एक लाख?


यूनियन हेल्थ मिनिस्ट्री ने बताया कि देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 96,169 हो गई है, जिसमें 53,316 सक्रिय हैं, 36,824 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 3029 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में 5,242 नए मामले सामने आए हैं। यह अब तक एक दिन में संक्रमित मामलों की संख्या में सबसे अधिक है। वहीं पिछले 24 घंटे में 157 लोगों की मौत हो चुकी है।


जिस हिसाब से देश में कोरोनावायरस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है, डर है कि इस हफ्ते भारत का आंकड़ा 1 लाख के नंबर को भी पार कर सकता है। संक्रमण के मामले में भारत ने पहले ही चीन को पीछे छोड़ दिया है।


लॉकडाउन 4.0 में कई छूट


आज 18 मई से 31 मई तक के लिए लॉकडाउन 4.0 लागू कर दिया गया है। इस लॉकडाउन-4 में कई तरह की ढील दी गई है। जिसमें गृह मंत्रालय ने रेड जोन में भी ई-कॉमर्स (E-Commerce) कंपनियों के जरिए गैर जरूरी सामान मंगाने की छूट दे दी है। यानी अब आप फ्लिपकार्ट (Flipkart) अमेजॉन (Amazon) जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों से कूलर, पंखा, फ्रिज, टीवी, मोबाइल मंगा सकते हैं।


इस मामले ई-कॉमर्स कंपनियां पूरी सर्विस देने के लिए तैयार हैं। फिलहाल उन्हें इसकी मंजूरी के लिए राज्य सरकार से गाइडलाइंस मिलने का इंतजार है।


गृह मंत्रालय (MHA) ने लॉकडाउन-4 में  कंटेनमेंट जोन को छोड़कर कई तरह की गतिविधियों को खोलने की अनुमति दे दी है। वहीं कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी गई है। कंटेनमेंट जोन घोषित करने का अधिकार राज्य सरकारों को दिया गया है। जबकि केंद्र शासित प्रदेशों में प्रशासन को दिया गया है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।