Maharashtra में पूर्ण लॉकडाउन पर फैसला कल, उद्धव ठाकरे Covid टास्क फोर्स की बैठक के बाद करेंगे ऐलान

लॉकडाउन कितने दिनों के लिए लगाया जाएगा और इस दौरान किस तरह की गतिविधियां की छूट होगी, यह भी टास्क फोर्स की बैठक में तय हो सकता है
अपडेटेड Apr 12, 2021 पर 09:53  |  स्रोत : Moneycontrol.com

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस महामारी के कारण हालात बेकाबू हैं। राज्य में पहले से ही वीकेंड लॉकडाउन लागू है। महाराष्ट्र में पूर्ण लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगेगा या नहीं, इस पर फैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कल कोरोना टास्क फोर्स की बैठक के बाद लेंगे। राज्य में कोरोना की चिंताजनक स्थिति को देखते हुए सीएम उद्धव ठाकरे ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई थी।

लॉकडाउन कितने दिनों के लिए लगाया जाएगा और इस दौरान किस तरह की गतिविधियां की छूट होगी और किन गतिविधियों पर पूरी तरह रोक होगी, यह भी टास्क फोर्स की बैठक में तय हो सकता है। महाराष्ट्र में ऑल पार्टी मीटिंग (All Party Meeting) आज बेनतीजी रही।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बुलाई गई इस बैठक में सत्ताधारी महाविकास अघाड़ी के नेताओं के साथ BJP के नेता देवेंद्र फडणवीस और MNS के राज ठाकरे शामिल हुए। कल यानी रविवार को सीएम उद्धव ठाकरे कोरोना टास्क फोर्स का बैठक बुलाई है। इस बैठक के बाद राज्य में लॉकडाउन लगाने पर कोई बड़ा ऐलान हो सकता है।

सर्वदलीय बैठक में आज सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य में अगर केस कम नहीं हुए तो 21 अप्रैल तक स्थिति बेहद खराब हो जाएगी। लॉकडाउन के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि सभी को मिलकर फैसला लेना होगा। उन्होंने कहा कि अगर लॉकडाउन लगा तो महीने भर में कोरोना नियंत्रित हो जाएगा। नहीं तो 15 से 20 अप्रैल के बीच स्थिति बहुत खराब हो सकती है।

हालांकि BJP नेता देवेंद्र फडणवीस ने लॉकडाउन का यह कहते हुए विरोध किया कि अगर पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया तो जनता सड़क पर आ सकती है। उन्होंने कहा कि पाबंदियां होनी चाहिए, लेकिन लोगों को ध्यान में रखकर ही फैसला लेना होगा। फडणवीस ने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करने पर जोर दिया और कहा कि मरीजों को बेड्स मुहैया कराया जाए।

फडणवीस ने कहा, पाबंदियां कुछ ही होनी चाहिए। अगर लॉकडाउन लग गया तो  लोग जिएंगे कैसे। राज्य पर कर्ज का बोझ बढ़ रहा है, तो क्या इसे बढ़ने दें। व्यापार खत्म हो रहे हैं। बिना सोचे अगर लॉकडाउन किया, तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ेगा। वहीं, वहीं महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर रहे नाना पटोले ने कहा कि लोगों की जान बचाना जरूरी है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।