MNCs कर रहे टैक्स चोरी, भारत को हर साल 76 हजार करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान: रिपोर्ट

बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा टैक्स चोरी किए जाने के कारण भारत को हर साल 76,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो रहा है
अपडेटेड Nov 22, 2020 पर 18:08  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश के कॉरपोरेट सेक्टर और बहुराष्ट्रीय कंपनियों (MNCs) द्वारा टैक्स की बेइमानी (Tax abuse) किए जाने के कारण भारत को हर साल 76,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो रहा है। यह राशि भारत की GDP के लगभग 0.50% के बराबर है। यह देश के स्वास्थ्य बजट का 44% और एजुकेशन पर खर्च होने वाली कुल राशि के 10% से अधिक है। यह दावा द स्टेट ऑफ टैक्स जस्टिस की एक रिपोर्ट में किया गया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि MNCs द्वारा टैक्स चोरी (Tax Fraud) किए जाने के कारण भारत को कम से कम 10.3 बिलियन डॉलर का नुकसान हर साल हो रहा है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 10 बिलियन डॉलर की टैक्स चोरी MNCs कर रहे हैं। वहीं, करीब 2200 करोड़ रुपये की टैक्स की चोरी प्राइवेट व्यक्तियों यानी individuals द्वारा की जाती है। टैक्स जस्टिस नेटवर्क और ग्लोबल एलायंस फॉर टैक्स जस्टिस की रिपोर्ट के मुताबिक, MNCs द्वारा टैक्स चोरी किए जाने के कारण दुनियाभर के देशों को करीब 427 बिलियन डॉलर यानी 31.6 लाख करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो रहा है।

टैक्स चोरी से अमेरिका सबसे अधिक पीड़ित

इस रिपोर्ट में चिंता जाहिर की गई है कि कोरोना काल में विश्व के अधिकतर देश महामारी से जूझ रहे हैं और अर्थव्यवस्था के गिरने से संकट में हैं। ऐसे में टैक्स चोरी पर लगाम लगाया जाना चाहिए। टैक्स जस्टिस नेटवर्क और ग्लोबल एलायंस फॉर टैक्स जस्टिस की रिपोर्ट के मुताबिक, टैक्स चोरी का सबसे ज्यादा नुकसान अमेरिका (America) को हुआ है। अमेरिका में एक साल में लगभग 90 बिलियन डॉलर यानी 6.67 लाख करोड़ रुपये की टैक्स चोरी हुई है। इससे अमेरिकी अर्थव्यवस्था में तगड़ा झटका लगा है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि टैक्स चोरी के कारण गरीब देश अपने कुल कर रेवेन्यू का एक बड़ा हिस्सा खो रहे हैं।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।