दशहरा पर मोहन भागवत ने की शस्त्र पूजा, कहा - भारतीय सेना के जवाब से सहम गया चीन

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ यानी RSS का आज विजय दशमी के दिन स्थापना दिवस है
अपडेटेड Oct 26, 2020 पर 11:01  |  स्रोत : Moneycontrol.com

आज पूरे देश भर में विजयदशमी (दशहरा) मनाया जा रहा है। दशहरे के दिन ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) का स्थापना दिवस भी होता है। इस मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर शस्त्र पूजा की। वो लोगों को संबोधित कर रहे हैं। कोरोना वायरस की वजह से इस बार किसी भी मुख्य अतिथि को नहीं बुलाया गया है और कार्यक्रम में 50 से कम स्वयंसेवक हिस्सा ले रहे हैं।
उन्होंने कहा- 9 नवंबर को रामजन्मभूमि के मामले में अपना निर्णय देकर सर्वोच्च न्यायालय ने इतिहास बनाया। भारतीय जनता ने इस निर्णय को संयम और समझदारी का परिचय देते हुए स्वीकार किया।


चीन पर निशाना साधते हुए मोहन भागवत ने कहा कि हम शांत रहते हैं इसका मतलब यह नहीं कि हम कमजोर हैं। इस बात को एहसास तो अब चीन को भी हो गया होगा। लेकिन ऐसा नहीं है कि इसके बाद हम लापरवाह हो जाएं। ऐसे खतरों पर में नजर बनाए रखनी होगी। भागवत ने सेना की वीरता पर कहा कि हमारी सेना की अटूट देशभक्ति और अदम्य वीरता, हमारे शासनकर्ताओं का स्वाभिमानी रवैया और हम सब भारत के लोगों के दुर्दम्य नीति-धैर्य का परिचय चीन को पहली बार मिला है। उन्होंने कहा कि हम सभी से मित्रता चाहते हैं, यह हमारा स्वभाव है। परन्तु हमारी सद्भावना को कमजोर मानकर अपने बल के प्रदर्शन से कोई भारत को चाहे जैसा नचा ले, झुका ले, यह हो नहीं सकता है। इतना तो अब समझ में आ जाना ही चाहिए।


कोरोना वायरस पर मोहन भागवत ने कहा, सरकार की तरफ से सही समय पर उठाए गए कदमों की वजह से भारत को कोरोना के मामले में अन्य देशों के मुकाबले कम नुकसान हुआ। कोरोना से सावधान रहने के लिए भारत में कई नियम बनाए गए हैं। कोरोना की मार ने कई सार्थक बातों को अपनी तरफ खींचा है। 


मोहन भागवत ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए स्वदेश की नीति आवश्यक है और वोकल फॉर लोकल स्वदेशी की नीति से भरा हुआ है। इसके जरिए हम अपनी स्वदेशी की भावना को आगे बढ़ा सकते हैं और इसे पूरा कर सकते हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।