Lockdown: पीएम से वीडियो कॉन्फ्रेंस में जानिए मुख्यमंत्रियों ने क्या कहा?

ममता बनर्जी ने कहा, पश्चिम बंगाल संक्रमण रोकने की पूरी कोशिश कर रहा है, केंद्र इस समय राजनीति ना करे
अपडेटेड May 11, 2020 पर 23:01  |  स्रोत : Moneycontrol.com

कोरोनावायरस संक्रमण रोकने के लिए देश में पिछले 54 दिनों से लॉकडाउन चल रहा है। मौजूदा हालात पर चर्चा के लिए देश भर मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन के दौरान आज पांचवीं बार वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बातचीत की। आज की बातचीत में मुख्य फोकस लॉकडाउन हटाने और इकोनॉमी को शुरू करने पर रहा है।


बैठक में किसने क्या कहा?


तमिलनाडु सरकार की मांग


पीएम नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में तमिलनाडु के सीएम पलानीस्वामी ने केंद्र सरकार से 2000 करोड़ रुपए के मदद का निवेदन किया है। उन्होंने सरकार से राज्य का बकाया GST भी क्लियर करने को कहा है।


आंध्र प्रदेश ने क्या कहा?

आंध्र प्रदेश के सीएम जगनमोहन रेड्डी ने कहा कि केंद्र सरकार को चीजों की आवाजाही को प्रोत्साहित करने के लिए छूट देनी चाहिए। उन्होंने कहा इकोनॉमी को रिवाइव करने के लिए हमें मिलकर काम करना होगा। उन्होंने पीएम को MSME सेक्टर की मदद करने को कहा है। रेड्डी ने कहा कि आंध्र प्रदेश में 1 लाख MSME एंप्लॉयी हैं। अगर केंद्र मदद नहीं करेगा तो राज्य में बेरोजगारी बढ़ जाएगी।


रेड्डी ने यह भी कहा कि लोगों में वायरस को लेकर जागरूकता फैलाई जा रही है। जब तक इसकी कोई दवा नहीं बनती लोगों को इसके साथ रहने के लिए तैयार होना होगा। उन्होंने कहा कि इस बीमारी को लेकर जो डर है वो खत्म करना होगा क्योंकि 95 फीसदी मामलों में बीमारी ठीक हो रही है।


गृह मंत्रालय ने क्या कहा?


गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि वंदे भारत मिशन के तहत विदेश में फंसे 4000 भारतीयों को देश लाया गया है। इसके साथ ही अब तक 5 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाया गया है।


पश्चिम बंगाल ने क्या कहा?


पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए राज्य हर मुमकिन कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे मुश्किल वक्त में केंद्र को राजनीति नहीं करनी चाहिए।


क्या है मुश्किल?


हजारों मजदूर अपने घर वापस चले गए हैं। ऐसे में अब इंडस्ट्री शुरू करना मुश्किल काम होगा। पीएम मोदी ने कहा कि मुश्किल वक्त में घर लौटना मानव स्वभाव है। लिहाजा हमें कुछ निर्णय बदलने भी पड़े।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।