एक देश एक राशन कार्ड: देश में कहीं भी कार्ड दिखाकर मजदूर ले सकते हैं राशन

लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को रहने और खाने के इंतजाम के लिए ये ऐलान हुए हैं
अपडेटेड May 15, 2020 पर 11:15  |  स्रोत : Moneycontrol.com

20 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज के दूसरे चरण का ब्योरा देते हुए फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने प्रवासी मजदूरों के लिए तीन खास सपोर्ट का ऐलान किया है। इसमें जो सबसे अहम है वह है one nation one ration card। यानी अब प्रवासी मजदूर चाहे किसी भी राज्य के हों और कहीं भी रहते हों अपना राशन कार्ड दिखाकर अनाज ले सकते हैं।


बिना राशन कार्ड के भी मिलेगा अनाज


सभी प्रवासी मजदूरों जिनके पास राशन कार्ड है उन्हें पहले की तरह दो महीने तक गेहूं और चावल मिलता रहेगा। लेकिन जिनके पास राशन कार्ड नहीं है उन्हें 5 किलो चावल और एक किलो चना दिया जाएगा। यह राज्यों की जिम्मेदारी होगी कि वह इसका फायदा मजदूरों तक पहुंचाएं।


देश भर में चलेगा एक राशन कार्ड


वित्त मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार पूरे देश में एक राशन कार्ड लागू करने की तैयारी में है। फिलहाल किसी भी राज्य का राशन कार्ड किसी दूसरे राज्य में दिखाकर राशन लिया जा सकता है। प्रवासी मजदूरों को दिक्कत ना हो इसलिए यह फैसला लिया गया है।


प्रवासी मजदूरों के रहने की व्यवस्था


फाइनेंस मिनिस्टर  निर्मला सीतारमण ने बताया कि पीएम आवास योजना के तहत प्रवासी मजदूरों और शहरी गरीबों के लिए रेंटल हाउसिंग स्कीम लाने की तैयारी है। इस योजना के तहत गरीबों को कम किराए पर रहने के लिए घर मिलेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।