पैरामिलिट्री कैंटीन में आज से मिलेगा मेड इन इंडिया सामान, हजारों विदेशी सामान हुए लिस्ट से बाहर

केंद्रीय पुलिस कल्याण भंडार (KPKB) ने उन कंपनियों को प्रोडक्ट पर बैन लगा दिया है, जिन लोगों ने जानकारी मांगने पर नहीं दी थी
अपडेटेड Jun 02, 2020 पर 10:27  |  स्रोत : Moneycontrol.com

स्वदेशी प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने के मकसद से केंद्रीय पुलिस कल्याण भंडार (Kendriya Police Kalyan Bhandars-KPKB) ने कोलगेट टूथपेस्ट, मेबेलिन लिपिस्टिक (Maybelline lipstick) और हॉर्लिक्स (Horlicks) जैसे 1000 से ज्या दा विदेशी उत्पा्दों को बिक्री बंद कर दी गई है। इसका कारण ये है कि केंद्रीय गृहमंत्रालय (Union home ministry) ने केवल स्वदेशी सामान बेचने का आदेश दिया है।


KPKB भारत में पैरामिलिट्री कैंटीन चलाने वाली संस्था है, जो कि 1 जून से केवल स्वेदशी सामानों की बिक्री करेगी।


ANI की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि Skechers, Ferrero, Red Bull, Victorinox, Safilo (Polaroid, Carrera) सहित उत्पादों का आयात करने वाले 7 फर्मो को लिस्ट से बाहर कर दिया गया है। KPKB ने उन कंपनियों के प्रोडक्ट्स पर भी पाबंदी लगा दी है  जिन लोगों ने जानकारी मांगने पर नहीं मुहैया कराई।


KPKB ने सभी प्रोडक्ट्स को 3 कैटेगरी में बांटा है।


कैटेगरी-1 में शुद्ध रूप से भारत में बने प्रोडक्ट शामिल हैं।


कैटेगरी-2 में आयातित कच्चे माल वाले प्रोडक्ट शामिल हैं। लेकिन यह भारत में निर्मित या असेंबल किए जाते हैं।


कैटेगरी -3 में विशुद्ध रूप से आयातित (Purely Imported) प्रोडक्ट होते हैं।


कैटगरी -1 और कैटेगरी -2 को बेचने की मंजूरी दी गई है। जबकि कैटेगरी-3 के प्रोडक्ट को 1 जून से बेचने पर पाबंदी लगा दी गई है।


पैरामिलिट्री फोर्स के भेजे गए एक पत्र में कहा गया है कि गृह मंत्रालय के फैसले के मुताबिक, भारत सरकार स्वदेशी सामान केवल KPKB भंडारों के जरिए बेचा जाएगा। इस पत्र में सभी फर्मों से प्रोडक्ट के बारे में जानकारी मांगी गई है।


बता दें कि कि केंद्रीय पुलिस कैंटीन CRPF, BSF, ITBP, CISF, SSB, NSG और असम राइफल्स करीब 10 लाख कर्मचारी और 50 लाख परिवारों को सदस्यों को प्रोडक्ट बेचा जाता है। पैरामिलिट्री कैंटीन की बिक्री सालाना लगभग 2,800 करोड़ रुपये है।


गौरतलब है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने घोषणा की थी कि इ के सभी कैंटीन में 1 जून से केवल स्वदेशी प्रोडक्ट ही बिकेंगे।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें