PM Kisan Instalment: पीएम मोदी ने 18,000 करोड़ की किश्त जारी की, 9 करोड़ किसानों को लाभ

पीएम नरेंद्र मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर किसानों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि की सातवीं किश्त जारी की है
अपडेटेड Dec 26, 2020 पर 08:49  |  स्रोत : Moneycontrol.com

पीएम नरेंद्र मोदी ने आज पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम की सातवीं किस्त जारी की है। पीएम आज किसान सम्मेलन के लिए महरौली पहुंचे जहां उन्होंने किसानों को संबोधित किया। इसके बाद पीएम ने 18,000 करोड़ रुपए की सातवीं किस्त जारी की है। इसका फायदा देश के 9 करोड़ किसानों को होगा।


किसान सम्मेलन के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने ओडिशा के किसानों से आग्रह किया कि वो दूसरे किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड के फायदों के बारे में बताएं। ताकि दूसरे किसान इस कार्ड का फायदा लेकर लोन उठा सकें। आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन है। इस मौके पर पीएम मोदी अटल बिहारी वाजपेयी पर एक किताब भी जारी की है।


पीएम मोदी ने कहा, आज देश के 9 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों के बैंक खाते में सीधे, एक क्लिक पर 18 हज़ार करोड़ रुपए जमा हुए हैं। जब से ये योजना शुरू हुई है, तब से 1 लाख 10 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा किसानों के खाते में पहुंच चुके हैं।


उन्होंने आगे कहा, "मुझे आज इस बात का अफसोस है कि मेरे पश्चिम बंगाल के 70 लाख से अधिक किसान भाई-बहनों को इसका लाभ नहीं मिल पाया है।


बंगाल के 23 लाख से अधिक किसान इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर चुके हैं। लेकिन राज्य सरकार ने वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को इतने लंबे समय से रोक रखा है।"


पीएम मोदी ने कहा, जो दल पश्चिम बंगाल में किसानों के अहित पर कुछ नहीं बोलते, वो यहां दिल्ली में आकर किसान की बात करते हैं। इन दलों को आजकल APMC- मंडियों की बहुत याद आ रही है। लेकिन ये दल बार-बार भूल जाते हैं कि केरला में APMC- मंडियां हैं ही नहीं। लेकिन केरल के लोग कभी आंदोलन नहीं करते।


पीएम ने कहा, हमने लक्ष्य बनाकर काम किया कि देश के किसानों का Input Cost कम हो। सॉयल हेल्थ कार्ड, यूरिया की नीम कोटिंग, लाखों सोलर पंप की योजना, इसीलिए शुरू हुई। सरकार ने प्रयास किया कि किसान के पास एक बेहतर फसल बीमा कवच हो।


पीएम मोदी ने कहा, हमारी सरकार ने प्रयास किया कि देश के किसान को फसल की उचित कीमत मिले। हमने लंबे समय से लटकी स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार, लागत का डेढ़ गुना MSP किसानों को दिया। पहले कुछ ही फसलों पर MSP मिलती थी, हमने उनकी भी संख्या बढ़ाई।


पीएम मोदी ने आज किसान सम्मेलन में कहा, आप अपनी उपज दूसरे राज्य में बेचना चाहते हैं? आप बेच सकते हैं। आप एफपीओ के माध्यम से उपज को एक साथ बेचना चाहते हैं? आप बेच सकते हैं। आप बिस्किट, चिप्स, जैम, दूसरे कंज्यूमर उत्पादों की वैल्यू चेन का हिस्सा बनना चाहते हैं? आप ये भी कर सकते हैं।


आप न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर अपनी उपज बेचना चाहते हैं?  आप उसे बेच सकते हैं। आप मंडी में अपनी उपज बेचना चाहते हैं? आप बेच सकते हैं। आप अपनी उपज का निर्यात करना चाहते हैं ? आप निर्यात कर सकते हैं। आप उसे व्यापारी को बेचना चाहते हैं? आप बेच सकते हैं।


पीएम ने अंत में कहा, इन कृषि सुधार के जरिए हमने किसानों को बेहतर विकल्प दिए हैं। इन कानूनों के बाद आप जहां चाहें जिसे चाहें अपनी उपज बेच सकते हैं। आपको जहां सही दाम मिले आप वहां पर उपज बेच सकते हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www।facebook।com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter।com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।