PM मोदी ने की हाई लेवल मीटिंग, देश में Covid-19 के स्थिति, दवा और ऑक्सीजन सप्लाई पर हुई चर्चा

PM मोदी को बताया गया कि महामारी की पहली लहर के दौरान ऑक्सीजन की मांग की तुलना में अब तीन गुना ऑक्सीजन की सप्लाई हो रही है
अपडेटेड May 13, 2021 पर 10:42  |  स्रोत : Moneycontrol.com

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बुधवार को देश में कोरोनोवायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने के लिए उठाए जा रहे कदम, ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता और सप्लाई की समीक्षा के लिए एक हाई लेवल बैठक की अध्यक्षता की। प्रधानमंत्री Covid-19 स्थिति पर नियमित बैठकें कर रहे हैं, ताकि संक्रमण से निपटने के लिए कारगर सुझाव दिए जाएं।


बुधवार को हुई बैठक में विभिन्न राज्य सरकारों की सप्लाई में कमी को देखते हुए ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता और सप्लाई पर ध्यान केंद्रित किया गया। प्रधानमंत्री ने ऑक्सीजन की उपलब्धता और आपूर्ति पर स्थिति का जायजा लिया। मंत्रियों ने उन्हें बताया कि पहली लहर के चरम के मुकाबले अब ऑक्सीजन की सप्लाई से तीन गुना ज्यादा है।


बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि महामारी की पहली लहर के दौरान ऑक्सीजन की मांग की तुलना में अब तीन गुणा ऑक्सीजन की सप्लाई हो रही है, जबकि पिछले कुछ हफ्तों में रेमडेसिविर सहित सभी दवाओं के उत्पादन में महत्वपूर्ण बढ़ोतरी की गयी है।


प्रधानमंत्री को बैठक के दौरान अवगत कराया गया कि Covid-19 के प्रबंधन में इस्तेमाल की जाने वाली दवाइयों की सप्लाई की निगरानी की जा रही है।


बयान के मुताबिक, "ये चर्चा हुई कि राज्यों को अच्छी मात्रा में दवाइयां उपलब्ध कराई जा रही हैं। साथ ही रेमडेसिविर सहित सभी दवाइयों के उत्पादन में पिछले कुछ हफ्तो में महत्वपूर्ण वृद्धि की गई है।"


इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत का फार्मा क्षेत्र बहुत ही "वाइब्रेंट" है और सरकार के साथ सहयोग से सभी दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित होगी।


बयान के मुताबिक, "प्रधानमंत्री ने देश में ऑक्सीजन की उपलब्धता और आपूर्ति की मौजूदा स्थिति का भी जायजा लिया। चर्चा हुई कि पहली लहर में ऑक्सीजन की मांग की तुलना में अब तीन गुना ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है।"


प्रधानमंत्री को ऑक्सीजन रेल और भारतीय वायु सेना के विमान से ऑक्सीजन की आवाजाही अभियान के बारे में भी अवगत कराया गया। उन्हें ऑक्सीजन सांद्रक और ऑक्सीजन सिलेंडरों की खरीदी और देश भर में स्थापित किए जाने वाले ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थिति से भी अवगत कराया गया।


इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों को समयबद्ध् तरीके से वेंटिलेटर्स के क्रियान्वयन और उसके निर्माताओं की मदद से तकनीकी और प्रशिक्षण संबंधी मुद्दों को सुलझाना चाहिए।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।