PPF का नियम बदला: अकाउंट एक्सटेंशन का नियम हुआ आसान

निवेशक अभी ऑनलाइन अपना फॉर्म जमा करेंगे और लॉकडाउन खत्म होने के बाद PPF एक्सटेंशन की ओरिजनल कॉपी जमा करेंगे
अपडेटेड Jul 07, 2020 पर 08:22  |  स्रोत : Moneycontrol.com

PPF Rules। पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) के निवेशकों को सरकार ने लॉकडाउन की पाबंदियों के बीच बड़ी राहत दी है। जो PPF खाताधारक अपना अकाउंट एक्सटेंड करना चाहते हैं उन्हें सरकार सहूलियत दे रही है। सामान्य तौर पर PPF खाता मेच्योर होने के बाद अकाउंट एक्सटेंशन फॉर्म जमा करने के लिए एक साल का ग्रेस पीरियड दिया जाता है। कई निवेशकों को यह फॉर्म मार्च में जमा करना था लेकिन लॉकडाउन की वजह से यह नहीं हो पाया। हालांकि अब निवेशक अपना एक्सटेंशन फॉर्म रजिस्टर्ड  ईमेल आईडी के जरिए भी जमा कर सकते हैं।


यानी निवेशक अभी ऑनलाइन अपना फॉर्म जमा करेंगे और लॉकडाउन खत्म होने के बाद PPF एक्सटेंशन की ओरिजनल कॉपी जमा करेंगे। PPF अकाउंट 15 साल में मेच्योर होता है। इसके बाद 5-5 साल के लिए इसे एक्सटेंड कराया जा सकता है। PF खातों को बिना कॉन्ट्रिब्यूशन किए भी जारी रखा जा सकता है। जब तक खाता बंद नहीं हो जाता तब तक इसमें जमा की गई रकम ब्याज भी मिलता रहेगा।


अकाउंट जारी रखने के लिए क्या करें?


PPF खाता जारी रखने के लिए अकाउंट होल्डर्स को खाता मेच्योर होने के एकसाल के भीतर फॉर्म H जमा करना पड़ता है। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो PPF अकाउंट मेच्योर होने के बाद उसमें जमा की गई रकम पर कोई ब्याज नहीं मिलेगा।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।