हेल्थ सर्विस के बुनियादी ढांचे के मामले में भारत के 8 बड़े शहरों में सबसे नीचे है दिल्ली- रिपोर्ट

ऑनलाइन रियल एस्टेट पोर्टल, हाउसिंग डॉट कॉम ने कई आधार पर देश के आठ बड़े शहरों में स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे पर उनकी रैकिंग की है
अपडेटेड May 12, 2021 पर 17:47  |  स्रोत : Moneycontrol.com

जब स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे की बात आती है, तो इस मामले में पुणे भारत का सबसे सुसज्जित शहर है, हाल ही में ऑनलाइन रियल एस्टेट पोर्टल, हाउसिंग डॉट कॉम द्वारा एक रिपोर्ट में ये जानकारी दी गई है। दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR), जो राष्ट्रीय राजधानी, गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद को कवर करता है, को लिस्ट में सबसे नीचे स्थान दिया गया है। मुख्य रूप से हवा और पानी की गुणवत्ता, स्वच्छता और नगर निकायों के प्रदर्शन के कारण इसे खराब अंक मिले हैं।


मिंट के मुताबिक, एलारा टेक्नोलॉजीज के स्वामित्व वाली ऑनलाइन रियल्टी फर्म की "स्टेट ऑफ हेल्थकेयर इन इंडिया" के शीर्षक वाली रिपोर्ट में कहा गया, "पुणे में प्रति 1,000 लोगों पर 3.5 अस्पताल बेड उपलब्ध हैं। ये भारत के राष्ट्रीय औसत से बहुत ज्यादा है, जहां पब्लिक हेल्थ सिस्टम में प्रति 1,000 लोगों पर केवल आधा बेड उपलब्ध है।"


देश के आठ बड़े शहरों अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली-NCR, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई (MMR) और पुणे में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को रैंक करने वाली रिपोर्ट के अनुसार, अपने हाउसिंग सिटी हेल्थ कार्ड के माध्यम से, पुणे ने जीवन स्तर में आसानी, पानी की गुणवत्ता, साथ ही साथ इसके स्थानीय सरकार द्वारा किए गए प्रदर्शन और टिकाऊ पहल जैसे मापदंडों पर काफी हाई स्कोर प्राप्त किया है।


ये रैंकिंग प्रति 1,000 लोगों पर अस्पताल के बेड की संख्या, हवा की गुणवत्ता, पानी की गुणवत्ता, साफ-सफाई, जीविका सूचकांक जैसे कई आधार पर की गई है।


रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, पुणे अभी भी सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा को लेकर काफी संघर्ष कर रहा है, क्योंकि ये उन शहरों में से एक है, जहां Covid-19 के केस काफी ज्यादा हैं।


प्रति 1,000 लोगों पर लगभग 3.2 अस्पताल बेड के साथ, अहमदाबाद लिस्ट में दूसरे स्थान पर है, जबकि भारत की सिलिकॉन वैली, बेंगलुरु, प्रति 1,000 लोगों की अधिक संख्या में अस्पताल बेड के बावजूद तीसरे स्थान पर है और लिविंग इंडेक्स की आसानी से इसकी रैंकिंग टॉप पर है।


भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई और उसके महानगरीय क्षेत्र (जो 2021 की पहली तिमाही में 2.5 बिलियन डॉलर के लेनदेन के साथ देश में सबसे बड़ा आवासीय अचल संपत्ति बाजार है) हाउसिंग डॉट कॉम सिटी हेल्थ कार्ड पर चौथे स्थान पर रही। बेड की संख्या, हवा की गुणवत्ता, जैसे मापदंडों के साथ इसका टोटल स्कोर नीचे ही रहा है।


वहीं इस लिस्ट में हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता क्रमशः पांचवें, छठे और सातवें स्थान पर है। रिपोर्ट में कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली में, केवल आधा बिस्तर और 1.4 बिस्तर उपलब्ध हैं, अगर हम भारत में प्रति 1,000 लोगों के लिए उपलब्ध सार्वजनिक प्लस निजी अस्पताल के बिस्तर की गणना करते हैं।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।