भारत-चीन सीमा पर शहीद सैनिकों को 50 लाख देगी पंजाब सरकार

सामान्य तौर पर राज्य शहीद हुए सैनिकों को 10 लाख रुपए देता है। लेकिन इस बार राज्य सरकार ने यह राशि बढ़ा दी है
अपडेटेड Jun 19, 2020 पर 16:48  |  स्रोत : Moneycontrol.com

लद्दाख के गलवान वैली में चीन के सैनिकों के साथ हुई झड़प में 20 सैनिक शहीद हुए हैं। बिहार रेजिमेंट में शामिल जो सैनिक पंजाब से थे उनके लिए पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अनुदान राशि बढ़ाकर 50 लाख रुपए कर दी है। सामान्य तौर पर राज्य  शहीद हुए सैनिकों को 10 लाख रुपए देता है। लेकिन इस बार राज्य सरकार ने यह राशि बढ़ा दी है। पंजाब के सीएम ने गुरुवार रात को कहा, “हम अपने बहादुर सैनिकों के लिए कम से कम इतना तो कर सकते हैं।”


मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, “पंजाब सरकार ने दायित्व निभाते हुए अपनी जान गंवाने वाले हमारे सैनिकों के परिवार को नौकरी देने के साथ ही उन्हें दी जाने वाली अनुग्रह राशि 10 लाख रुपए बढ़ाकर 50 लाख रुपएकरने का फैसला किया है।” उन्होंने कहा,‘‘ हमारी मातृभूमि के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले बहादुर सैन्यकर्मियों के लिए हम कम से कम इतना तो कर ही सकते हैं।”


राज्य सरकार शहीदों के परिवारों को 10 से 12 लाख रुपए ती है। इसके अलावा वह पंजाब के रहने वाले शहीद के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी की भी पेशकश करती है। किसी शहीद के परिवार को 10 से 12 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने का फैसला 1999 में लिया गया था।


बुधवार को, मुख्यमंत्री ने नायब सूबेदार सतनाम सिंह और नायब सूबेदार मनदीप सिंह के परिवार को 12-12 लाख रुपये और सिपाही गुरतेज सिंह और सिपाही गुरबिंदर सिंह को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की थी।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।