देश में अगले सप्ताह से उपलब्ध होगी रूस की कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक V, DCGI से मिला है अप्रूवल

इसे कोरोना के खिलाफ दुनिया की पहली वैक्सीन भी कहा जाता है। इसकी 75 करोड़ डोज का भारत में प्रोडक्शन किया जाएगा
अपडेटेड May 14, 2021 पर 08:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश भर में अगले सप्ताह से कोरोना वायरस के खिलाफ रूस की वैक्सीन स्पुतनिक (Sputnik) V उपलब्ध होगी। इस वैक्सीन को रूस के गैमालेया नेशनल सेंटर ने डिवेलप किया है। इसे कोरोना के खिलाफ दुनिया की पहली वैक्सीन भी कहा जाता है।


नीति आयोग के सदस्य, वी के पॉल ने हेल्थ मिनिस्ट्री के संवाददाता सम्मेलन में गुरुवार को यह घोषणा की. उन्होंने बताया कि स्पुतनिक का देश में प्रोडक्शन जुलाई में शुरू होगा। भारत में इसका प्रोडक्शन डा रेड्डीज लैबोरेट्रीज करेगी।


स्पुतनिक V को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने अप्रैल में इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन (EUA) दिया था। यह देश में कोरोना से बचाव के लिए दी जाने वाली तीसरी वैक्सीन होगी। अभी कोविडशील्ड और कोवैक्सीन की देश में मैन्युफैक्चरिंग हो रही है।


सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के प्लांट में कोविडशील्ड की मैन्युफैक्चरिंग की जा रही है। इस वैक्सीन को एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने मिलकर डिवेलप किया है। भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के सहयोग से कोवैक्सीन डिवेलप की है।


स्पुतनिक को पिछले वर्ष अगस्त में रूस में अप्रूवल दिया गया था। इसकी क्षमता 91.6 प्रतिशत की है। इस वैक्सीन को कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इस्तेमाल के लिए 50 से अधिक देशों में अप्रूवल मिल चुका है।


रशियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) ने भारत में स्पुतनिक की 75 करोड़ डोज के प्रोडक्शन के लिए एक डील साइन की है।


कोरोना के खिलाफ भारत में वैक्सिनेशन अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ था। अभी देश में वैक्सिनेशन का तीसरा फेज चल रहा है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।