समुद्री स्थितियां अनुकूल होने से भारी समुद्री तूफान में बदल सकता है

अम्फन जैसा नुकसान कर सकता है समुद्री तूफान। मछुआरों की दी गई समुद्र से दूर रहने की सलाह
अपडेटेड May 13, 2021 पर 21:17  |  स्रोत : Moneycontrol.com

दक्षिणपूर्व अरब सागर और इसके निकट लक्षद्वीप पर कम दबाव का क्षेत्र बनने से समुद्री तूफान ताकुताए की आशंका बढ़ गई है। यह 16 मई को लक्षद्वीप से टकरा सकता है। समुद्री तूफान बनने के बाद ताकुताए तेजी से मजबूत हो सकता है क्योंकि मौसम की सभी स्थितियां इसके अनुकूल दिख रही हैं।


देश के मौसम विभाग की इंचार्ज (साइक्लोन), सुनीता देवी ने बताया, "अम्फन जैसे भयंकर समुद्री तूफान की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। अभी यह कहना मुश्किल है कि समुद्री तूफान कौन सी कैटेगरी में पहुंचेगा। लेकिन इसके तेजी से मजबूत होने के लिए स्थितियां अनुकूल हैं। समुद्र में गर्मी औसत से अधिक है, समुद्र की सतह का तापमान सामान्य से 1-2 डिग्री ऊपर है। हमें तैयार रहना चाहिए।"


लक्षद्वीप में 13 और 14 मई को हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है, केरल में 13 मई और तमिनाडु के कुछ क्षेत्रों और कर्नाटक में 15 मई को तेज बारिश होने की संभावना है।


कोंकण और गोवा में 15 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम और 16 और 17 मई को कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान है। गुजरात में 17 मई से बारिश शुरू हो सकती है और इसके अगले दो दिन तक रहने की संभावना है। सौराष्ट्र में कुछ स्थानों पर 18 और 19 मई को भारी बारिश हो सकती है।


गहरे समुद्र में गए मछुआरों को तट पर लौटने की सलाह दी गई है। भारी बारिश की संभावना वाले स्थानों पर मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा गया है।


मछुआरों को 13 मई से पूर्वी मध्य अरब सागर और 14 मई से कर्नाटक में तट से दूर रहने को कहा गया है। इसके अलावा मछुआरों के लिए 15 मई से गोवा और 17 मई से पूर्वी मध्य अरब सागर और गुजरात के तट से दूर रहने की सलाह है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।