Coronavirus: अभी झेलना होगा तीसरी वेव का भी प्रकोप, सरकार ने कहा- पहले से तैयारी जरूरी

सरकारी अधिकारियों ने कहा कि देश वर्तमान समय में जिस तरह की Covid-19 की भयानक लहर का सामना कर रहा है, उसके बारे में पहले से कोई अनुमान नहीं था
अपडेटेड May 06, 2021 पर 13:25  |  स्रोत : Moneycontrol.com

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर अभी गई भी नहीं कि सरकार ने तीसरी लहर (Third Wave) की चेतावनी दे दी है। सरकार ने बुधवार को कहा कि Covid-19 महामारी की तीसरा लहर भी आएगी, लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि ये लहर किस समय आएगी और इसलिए, हमें इसके लिए तैयार रहना चाहिए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने वर्तमान में COVID-19 स्थिति और देश में वैक्सीनेशन ड्राइव के बारे में जानकारी देते हुए ये बात कही।


वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि देश वर्तमान समय में जिस तरह की Covid-19 की भयानक लहर का सामना कर रहा है, उसके बारे में पहले से कोई अनुमान नहीं था। सरकार ने कहा कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और उत्तर प्रदेश सहित 12 राज्यों में 1 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं।


साथ ही कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और बिहार उन राज्यों में से हैं, जहां रोज आने वाले नए मामले बढ़ रहे हैं। सरकार ने ये भी कहा कि 24 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश 15 प्रतिशत से ज्यादा COVID पॉजिटिविटी रेट दिखाते हैं।


अधिकारियों ने कहा कि चिंता के कुछ क्षेत्र हैं, जैसे कि बेंगलुरु में पिछले एक हफ्ते में लगभग 1.49 लाख मामले सामने आए हैं। कोझिकोड, एर्नाकुलम और गुरुग्राम सहित कुछ जिलों में संक्रमण का तेजी से प्रसार हो रहा है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा में ज्यादा मृत्यु दर की रिपोर्ट के साथ मौतों में बढ़ोतरी भी देखी गई है।


केंद्र के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने कहा, "वायरस के उच्च स्तर के प्रसार को देखते हुए तीसरी लहर आना अनिवार्य है लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह तीसरी लहर कब आएगी और किस स्तर की होगी।" उन्होंने कहा कि हमें नई लहरों के लिए तैयार रहना चाहिए।


विजय राघवन ने ये भी कहा, "कोरोना की दूसरी लहर इतनी भीषण और लंबी होगी, इसका अनुमान नहीं लगाया गया था।" राघवन ने कहा है कि नया स्ट्रेन भी ओरिजिनल वायरस की तरह ही संक्रमण पैदा कर रहा है। इसमें संक्रमण की नई तरह की क्षमता नहीं है।


उन्होंने कहा कि दुनिया भर के वैज्ञानिक नए वेरिएंट्स का पूर्वानुमान लगाने और जल्दी चेतावनी और तेजी से संशोधित टूल विकसित करके इनके खिलाफ काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "यह एक गहन शोध कार्यक्रम है, जो भारत और विदेशों में हो रहा है।"


NITI Aayog के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने "चिकित्सकों की बिरादरी" से अनुरोध किया कि वे आगे आएं और कोरोनोवायरस से संक्रमित लोगों और परिवारों को घर पर फोन पर सुझाव दें।


डॉ. पॉल ने कहा, "बदलते वायरस की प्रतिक्रिया समान रहती है। हमें COVID-19 उपयुक्त व्यवहार जैसे मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, साफ सफाई, बिना किसी जरूरी काम के बाहर न निकलना और घर पर ही रहने की जरूरत है।"


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।