ट्राई ने BSNL, Airtel, Jio और वोडाफोन जैसी कंपनियों पर लगाया जुर्माना, जानिए क्यों?

कंपनियों पर अप्रैल-जून 2020 में 34,000 से 30 करोड़ रुपये तक का जुर्माना लगाया गया है
अपडेटेड Nov 26, 2020 पर 10:03  |  स्रोत : Moneycontrol.com

भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (Telecom Regulatory Authority of India, TRAI) ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा कि अनचाहे व्यावसायिक फर्जी कॉल पर रोक नहीं लगाने को लेकर उसने बीएसएनएल (BSNL), रिलायंस जियो (Reliance Jio), एयरटेल (Airtel) और वोडाफोन (Vi, Vodafone Idea) जैसी कंपनियों पर अप्रैल-जून 2020 में 34,000 से 30 करोड़ रुपये तक का जुर्माना लगाया है।


चीफ जस्टिस डी. एन. पटेल और जस्टिस प्रतीक जालान की पीठ ने इस मामले में कार्रवाई करने के लिए आठ हफ्ते का वक्त दिया था। साथ ही इसमें विफल रहने पर दंडात्मक कार्रवाई करने के प्रति चेतावनी भी दी थी। अदालत के ये निर्देश वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड (One97 Communications) की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान आए थे। Paytm का संचालन करने वाली इस कंपनी ने दूरसंचार कंपनियों पर उनके नेटवर्क पर फिशिंग की गतिविधियों को नहीं रोकने का आरोप लगाया था।


ट्राई ने कोर्ट को बताया कि अप्रैल, मई और जून में अनचाहे व्यावसायिक कॉल पर रोक लगाने में विफल रहने पर सार्वजनिक क्षेत्र की भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) पर 30 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया। इसके अलावा प्रक्रिया संहिता का पालन नहीं करने के लिए उस पर 10 लाख रुपये का अतिरिक्त जुर्माना लगाया गया। इसी तरह एयरटेल, वोडाफोन, क्वाडरैंट टेलीवेंचर्स और रिलायंस जियो पर क्रमश: 1.33 करोड़ रुपये, 1.82 करोड़ रुपये, 1.41 करोड़ रुपये और 14.99 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया।


इसके अलावा महानगर टेलीकॉम निगम लिमिटेड पर 1.73 लाख रुपये, टाटा टेलीसर्विसेस लिमिटेड (Tata Teleservices) पर 15.01 लाख रुपये और वीकॉन मोबाइल एंड इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड पर 34,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। ट्राई ने कहा कि इस संबंध में 23 नवंबर को आदेश पारित किया गया। कंपनियों को यह जुर्माना आदेश जकी तारीख से 20 दिन के भीतर जमा करना है।


सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/moneycontrolhindi/) और Twitter (https://twitter.com/MoneycontrolH) पर फॉलो करें।